Vous êtes sur la page 1sur 55
<a href=MADAN VASHIKARAN PRAYOG In field of Tantra, there is one important karma under Shatkarmas (six important Karmas of Tantra) called Vashikaran. Common people may see this karma with fearful point of view but nobody is unaware of its utility and its need in today’s time. As compared to ancient time, infidelity/crime has spread all around in very large proportion and person is now compelled to live a life full of ever-persisting fear. Person in order to meet his selfish objective is not even thinking for a minute before causing harm to others. It is but natural to feel sense of con sistent insecurity in this blind race. Therefore in today’s time, person is totally deprived of pleasure. And person then finds himself helpless, confronted with various problems. Certainly this situation in unsuitable but we were the one who gave rise to sequence of the events which culminated into this situation. If there is a problem, it has a solution too. And that’s why our ancient sages and saints resorted to " id="pdf-obj-0-4" src="pdf-obj-0-4.jpg">

In field of Tantra, there is one important karma under Shatkarmas (six important Karmas of Tantra) called Vashikaran. Common people may

see this karma with fearful point of view but nobody is unaware of its

utility and its need in today’s time. As compared to ancient time, infidelity/crime has spread all around in very large proportion and person is now compelled to live a life full of ever-persisting fear. Person in order to meet his selfish objective is not even thinking for a minute before causing harm to others. It is but natural to feel sense of consistent insecurity in this blind race. Therefore in today’s time, person is totally deprived of pleasure. And person then finds himself helpless, confronted with various problems. Certainly this situation in

unsuitable but we were the one who gave rise to sequence of the events which culminated into this situation. If there is a problem, it has a

solution too. And that’s why our ancient sages and saints resorted to

Dev Shakti; wherever our power is limited, we can attain power and

strength from them through worship of Dev Shakti and get rid of

problems of our life. And this procedure is Tantra……Mahasiddhs

have always agreed on the fact that Tantra is capable of getting rid of any problem of person. But due to our ignorance and due to many selfish people, this Vidya slowly and gradually became obsolete. But from time to time, Many Mahasiddhs took incarnation and tried to

connect this Vidya with common masses. Shri Sadgurudev dedicated every second of his life for welfare of people. And from time to time, he put forward easy and exceptional procedures of Tantra in front of all so that common people can get rid of shortcomings of their life through this Vidya and attains joy and happiness in their lives. Sadgurudev provided so many prayogs related to Vashikaran through which person can do vashikaran of his enemy and secure himself. If any person starts causing harm, he can be stopped. If any family member or any acquaintance is doing wrong act, his orientation can be changed or if anyone is suffering from bad company, he can be saved from it. In this manner, there is no wrong in doing Vashikaran in moral manner. And it is procedure to provide auspicious situation to sadhak. In this context, this prayog is presented which has also been called Madan Vashikaran Prayog. This prayog is related to Kaamdev, though Kaamdev can attract or do vashikaran of anyone any moment through arrow of flowers. This hidden prayog is important prayog for all of us

in today’s era.

Sadhak can start this prayog from any auspicious day. It is better if sadhak does this prayog after 10:00 P.M in night.

Sadhak should take bath, water yellow dress and sit on yellow aasan facing north/east direction. Sadhak should do Guru Poojan and Ganesh Poojan and chant Guru Mantra. After it, sadhak should establish any picture or yantra of Kaamdev and do its normal poojan. Sadhak should light oil-lamp and light incensed stick. After it, sadhak should do Nyas.

KAR NYAAS

KLAAM ANGUSHTHAABHYAAM NAMAH KLEEM TARJANIBHYAAM NAMAH KLOOM SARVANANDMAYI MADHYMABHYAAM NAMAH KLAIM ANAAMIKAABHYAAM NAMAH KLAUM KANISHTKABHYAAM NAMAH KLAH KARTAL KARPRISHTHAABHYAAM NAMAH HRIDYAADI NYAAS

KLAAM HRIDYAAY NAMAH KLEEM SHIRSE SWAHA KLOOM SHIKHAYAI VASHAT KLAIM KAVACHHAAY HUM KLAUM NAITRTRYAAY VAUSHAT KLAH ASTRAAY PHAT

After Nyas procedure, sadhak should chant 11 rounds of below mantra. Sadhak has to do chanting while looking on the flame of lamp. Sadhak can use crystal or Rudraksh rosary for chanting.

OM KLEEM MADMAD MAADAY MAADAY AMUKAM VASHY VASHY HREEM SWAHA

Sadhak should do this procedure for 5 days. In this manner, sadhna procedure is completed through which sadhak can take practical benefits many times. Whenever sadhak has to do vashikaran prayog,

sadhak should keep any flower, water or any food item in front of him and chant 1 rounds of this mantra while looking at it. In mantra, use

the name of person in the place of “AMUKAM”. Sadhak should give this

consecrated article to that person. Whenever that person uses this

article, sadhak’s desire is fulfilled.

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

तंत्र के क्षेत्र में षट्कमम के अंतगमत एक महत्वपणूम कमम ह ैवशीकरण. साधारण जन मानस

भले ही इस कमम को भय के नज़ररए से देखे लेककन इसको उपयोकगता और आज के समय में

इसकी अकनवायमता से कोई अभी अनकभज्ञ नहीं ह.ै क्यों की परुातन काल की अपेक्षा, व्यकभचार

आज चारों तरफ अकधक मात्र में प्रसाररत हो चकू

ा ह ैतथा मनष्ुय सदवै

सतत भय से कघरा हआु

जीवन जीने के कलए बाध्य हो गया है. स्वाथम परास्त के कारण व्यकि आज ककसी का भी

अकहत करने से पहले एक क्षण रुक कर सोच नहीं रहा ह.ै इसी अंधी दौडमें हमेशा ही असरुक्षा

का अहसे ास होना पणम रूपेण स्वाभाकवक मानस अवस्था है. आज के समय में इसी कलए व्यकि

का कचंतन एक नीरस जीवन जीने की कल्पना से हमेशा ही सखु

से अछूता ही रहता चला जाता

ह.ै और कफर कवकवध समस्याओ से कघरा हुआ व्यकि अपने आप को कनसहाय सा अनभुव करने

लगता है. कनश्चय ही यह कस्थकत अयोग्य ह ैलेककन इस कस्थकत ्रमम का प्राद भामव वस्ततु

हमारे

कारण ही तो हुआ ह.ै अगर समस्या ह ैतो कनश्चय ही उसका समाधान भी ह.ै और इसी कलए

हमारे प्राचीन ऋकष मकुनयों ने दवे

शकि को अपनाया था; जहां पर हमारी शकि कसकमत ह ैवही ीँ

हम देव शकियों की उपासना के माध्यम से उनसे शकिबल प्राप्त कर अपने जीवन की

समस्याओ से मकुि पा सकते ह.ै और यही प्रक्रमया तो तंत्र

ह.ै..महाकसद्धो

ने हमेशा इस तथ्य पर

सहमती ही व्यि की ह ैकी मनष्ुय को ककसी भी प्रकार की समस्या से मकुि कदलाने में तंत्र

समथम है. लेककन हमारी उपेक्षाओ के कारण तथा कवकवध ढोंग और स्वाथम परस्तो के कारण यह

कवद्या धीरे धीरे लप्तु

हो गई. परन्त समय पर कई महाकसद्ध वन्दनीय व्यकित्व ने अवतरण

कर इस कवद्या को पनु जनमानस के साथ जोड़ने का प्रयत्न ककया ह.ै श्रीसदगरुुदवे ने भी इसी

प्रयास में रत रहते हुवे अपना एक एक क्षण जनकल्याण के कलए समकपमत ककया था. तथा समय

समय पर उन्होंने तंत्र की सहज और कवलक्षण प्रक्रमयाओ को सब के मध्य रखा था कजससे की

सभी सवम साधारण जन इस कवद्या के द्वारा अपने जीवन की न्यनूताओ को द र कर सके तथा

अपने जीवन में सखु

तथा आनंद की प्राकप्त कर सके. वशीकरण सबंकधत कई प्रयोग सदगरुुदवे

ने प्रदान ककये थे कजससे की व्यकि शत्र वशीकरण कर सरुक्षा प्राप्त कर सके. कोई व्यकि

अकनष्ट करने पर उतर आये तो उसको रोका जा सके. घर पररवार का कोई व्यकि या

पररकचतजन अगर अयोग्य कायम कर रहा है तो उसको वापस मोड़ा जाए. या कफर कोई अयोग्य

संगत में ह ैतो उसे मिु

ककया जाए. इस प्रकार नैकतक रूप से वशीकरण करने पर कनश्चय ही

ककसी भी प्रकार का कोई दोष नहीं ह.ै तथा यह तो साधक के कलए एक अत्यंत ही शभु

कस्थकत

प्रदान करने वाली क्रमया ह.ै इसी ्रमम में यह प्रयोग प्रस्ततु

ह ैकजसे मदन वशीकरण प्रयोग कहा

गया ह.ै यह प्रयोग कामदवे

से सबंकधत ह,ै वैसे भी कामदवे

तो अपने पष्ुपबाण के माध्यम से

ककसी को भी क्षण में आककषमत या वशीभतू

कर सकते ह.ै यह गप्तु

प्रयोग आज के यगु

में सभी

के कलए एक महत्वपणूम प्रयोग ह.ै

ककसी भी शभु

कदन से साधक इस प्रयोग को शरूु

कर सकता है.

साधक इस प्रयोग को राकत्रकाल में १० बजे के बाद करे तो ज्यादा उत्तम रहता है.

स्नान आकद से कनवतृ

हो साधक पीले रंग के वस्त्र धारण करे तथा पीले रंग के आसान पर उत्तर

या पवूम कदशा की तरफ मखु

कर बैठ जाये.

साधक गरुुपजून तथा गणेश पजून करे एवं गरुुमन्त्र का जाप करे. इसके बाद साधक अपने

सामने कामदवे

का कोई कचत्र या पजून यंत्र स्थाकपत करे. उसका सामान्य पजून करे. साधक

को तेल का दीपक तथा सगुकन्धत अगरबत्ती को प्रज्वकलत करना चाकहए .

साधक इसके बाद न्यास करे.

करन्यास

क्लां अङ्गष्ठुाभयां नम

क्लीं तजमनीभयां नम

क्लं न् मध्यमाभयां नम

क्लैं अनाकमकाभयां नम

क्लौं ककनष्टकाभयां नम

क्ल करतल करपष्ठृ ाभयां नम

हृदयाददन्यास

क्लां रृदयाय नम

क्लीं कशरसे स्वाहा

क्लं कशखायै वषट्

क्लैं कवचाय ह ं

क्लौं नेत्रत्रयाय वौषट्

क्ल अस्त्राय फट्

न्यास हो जाने पर साधक को कनम्न मन्त्र की ११ माला जाप करनी है. यह जाप साधक को

दीपक की लौ (ज्योत) को दखे

ते हुवे करनी ह.ै मन्त्र जाप के कलए साधक स्फकटक या रुद्राक्ष

माला का प्रयोग कर सकता है.

ॐ क्लीं मद मद मादय मादय अमुकं वश्य वश्य ह्रीं स्वाहा

(OM KLEEM MAD MAD MAADAY MAADAY AMUKAM VASHY

VASHY HREEM SWAHA)

साधक को यह ्रमम ५ कदन तक करना ह.ै इस प्रकार यह साधना प्रक्रमया पणूम होती ह ैकजसके

बाद साधक कई बार इसका प्रायोकगक लाभ उठा सकता है. साधक को जब भी वशीकरण

प्रयोग करना हो तो अपने सामने कोई पष्ुप, पानी या कोई भी अन्य खाध्य पदाथम रख कर

उसको दखे

ते हुवे उसी माला से एक माला मन्त्र जाप करे. मन्त्र में ‘अमकुं’ की जगह उस व्यकि

का नाम लें कजसका वशीकरण करना ह.ै साधक को अकभमकंत्रत पदाथम उस व्यकि को द ेदनेा

चाकहए जब वह व्यकि उस पदाथम का प्रयोग करता ह ैतो साधक का मनोरथ पणूम होता ह.ै

****npru****

हृदयाददन्यास क्लां रृदयाय नम क्लीं कशरसे स्वाहा क्लं कशखायै वषट् क्लैं कवचाय ह ं क्लौं नेत्रत्रयायNikhil a t 3:33 AM 1 comment: Labels: VASHIKARAN PRAYOG Tuesday, October 9, 2012 VYAKTI VISHESH KE LIYE VASHIKARAN PRAYOG " id="pdf-obj-5-55" src="pdf-obj-5-55.jpg">

Tuesday, October 9, 2012

Shat Karma Prayogs have got their own utility and they are devised to make human life

Shat Karma Prayogs have got their own utility and they are devised to make human life happy and progressive. Though the feeling and aim with which these prayogs are done, person has got its own thinking and reason. A Capable sadhak decides according to circumstances and uses these procedures when he considers himself appropriate. He neither does it upon instigation nor under the compulsion of emotion because effect is always there.

One of the prayogs among Shatkarma Prayog is

Vashikaran…

..

It

has been

said also

that

Vashikaran is the

process of avoiding bitterness in speech. But it is not possible

everywhere in every circumstances…

..

Sometimes

one

face

certain situations where such efforts of person does not yield any result, one has to take assistance of sadhna. And sadhna only means attaining all that which is not in our fate but it is in accordance with decorum and rules of society.

Vashikaran sadhnas are seen with inferior point of view. A reason is but obvious that these sadhnas have been used in wrong manner but by it, utility of sadhna does not end. It is responsibility of capable sadhak that whenever he gets time, he should keep on doing these sadhnas. Then only continuity in sadhna world can be established.

In today’s time ….because this era is very much influenced by

Venus planet. Therefore, person has become more inclined towards the things of enjoyment. Love and affection has got its own importance in life. But if by any reason, circumstances are not becoming favourable then these easy sadhnas have got their own utility in making these circumstances favourable which cannot under-estimated.

But using

these sadhnas for

destroying anyone’s life or

fulfilment of contemptible feelings is not at all right. Doing such things only causes a harm because today time is such that person does prayog on any girl passing by. Do not do like this otherwise person will himself be responsible for

wrong doing to any other person.

Dress and Aasan will be yellow. Day will be Friday. It can be done in Morning or Night.

Yellow Hakik Rosary has to be used for chanting mantra. Use name of desired person (which you want to make it favourable) in place of Amuk. It can be any female, male or officer.

Mantra:

Om Chiti Chiti Chaamundaa Kaali Kaali Mahaakaali Amukam

Me Vashmaanay Swaha ||

You have to chant mantra 10000 times and after mantra

Jap,

offer 1000 oblations

by

this

mantra. You can use

hawan Samagri available in market. Numbers of days is not fixed but do it in 5 or 7 days because only 100 rounds of

mantra have to be chanted.

After completion of prayog, you will feel yourself that how the environment has become favourable. But keep in mind that in such mantra your concentration, dedication and your faith in them plays very important role.

===================================================

षट्कमम प्रयोगों की अपनी ही एक उपयोकगता ह ैंऔर उनका कनमामण भी मानव जीवन को

सखु मय और उन्नकत यिु बनाये रखने के कलए हुआ ह,ैं यह जरुर ह ैंकी ककस भावना और

उदेश्य को लेकर इन प्रयोगों को ककया जाए, उस पर व्यकि की अपनी ही एक सोच और

कारण हो ता ह,ैंएक योग्य साधक पररस्थकत के अनसुार कनणमय कर अपने आप को जब उपयिु

समझता हैं तब इन कवधाओ का प्रयोग करता हैं न की ककसी के उकसावे मे आकर या ककसी

भावना के वश मे होकर क्योंकक प्रभाव तो होता ही हैं .

इन षट्कमम प्रयोग म ेएक प्रयोग ह ैं वशीकरण

..यीँ

तो कहा भी गया ह ैंवशीकरण एक मंत्र ह ैं

तज दे वचन कठोर .पर हर जगह हर पररकस्थतयों मे तो यह बात नही हो सकती हैं न ..

कई की

बार ऐसी पररकस्थतयां बन ह ैंकी व्यकि के हाथ मे प्रयास मात्र इतने से कुछ नही होता

बकल्क उसे साधना का भी सहयोग लेना ही पड़ता हैं,और साधना का मतलब ही हैं की जो

मयामदानकुूल,सामाकजक कनयमानकुुल हो उसे यकद वह भाग्य मे न हो तो भी उसे प्राप्त कर लेना.

वशीकरण साधनाओ को बहुत ही हये दृष्टी से दखे ा जाता ह ैंकारण भी ह ैंक्योंकक अनेको ने इस

साधनाओ का द रुपयोग ही ज्यादा ककया ह.ैंपर इससे इन साधनाओ की उपयोकगता तो समाप्त

नही हो जाती ह.ैंएक सयुोग्य साधक का कतमव्य हैं की जब भी समय कमले इन साधनाओ को

सम्पन्न करता जाए तभी तो साधना जगत मे कनरंतरता बनी रही सकती ह,ैं

आज के समय मे

...

क्योंकक यह यगु श्रमु ग्रह से कहीं ज्यदा प्रभाकवत ह ैंतो जीवन म े सखु

कवलास की चीजों के प्रकत व्यकि का रुझान कहीं ज्यादा होता गया हैं और जीवन मे प्रेम और

स्नेह की अपनी ही एक महत्वता हैं पर जब ककसी भी कारण से पररकस्थकतयाीँ साथ न दे रही हो

तब सारी पररकस्थकत को अपने अनकुूल करने के कलए इन सरल साधनाओ की अपनी ही एक

उपयोकगता हैं कजसे कमतर नही आीँका जा सकता हैं .

पर इन साधनाओ का प्रयोग कर ककसी का जीवन नष्ट करना या अपनी कुकत्सक भावनाओ

की पकूतम कतई उकचत नही ह ैंऐसा करने पर हाकन ही ज्यादा होती हैं .क्योंकक आज समय ऐसा

ह ैंकक लोग राह चलती लड़की पर प्रयोग कर द.ेंऐसा कतई न करें अन्यथा कुछ भी ककसी के

साथ अशभु ककये जाने पर व्यकि उसका स्वयं ही जबाब दहे होगा .

आसन और वस्त्र पीले रंग के हो .

कदन श्रमु वार का हो

समय प्रात या राकत्र काल

पीले रंग की हककक माला मंत्र जप केकलए उपयिु होगी.

अमकु की जगह इकछछत व्यकि का नाम ले कजसे आप अपने अनकुूल करना चाहते हैं वह

स्त्री, परुुष,अकधकारी कोई भी हो सकता ह.ैं

मंत्र:

दिदि दिदि िामडुं ा काली काली महाकाली अमुकं मे वशमानय स्वाहा ||

आपको दस हजार मंत्र करना ह ैंऔर मंत्र जप परूा होने

के बाद एक हजार बार इसी मंत्र

की आहुकत दनेा ह ैं,आहुकत आप हवन सामग्री माकेट मे कमलती ह,ैं वहां से ले आ सकते ह ैं

.कदनों की सख्या कनकश्चत नही ह ैंपर आप पांच या सात कदन मे परूा कर ले क्योंकक मात्र १००

माला मंत्र जप तो करना ह ैं.

प्रयोग सम्पन्न होने पर आप स्वयम ही पायेंगे की ककस तरह आपके कलए अनकुूल वातावरण

बन ह,ैं पर ध्यान रह ेइस प्रकार के मंत्र मे आपकी एकाग्रता और कनष्ठा और इनके प्रकत

आपका कवश्वास कहीं जयादा गहरी भकूमका कनभाता ह ैं.

Every person wants to be famous, to get respect in the society, wherever he goes, people want his company and he is the deserving candidate for getting all the affection. But how this is possible whereas everywhere only one quality has been given all the consideration i.e. money. Sadgurudev has said in one cassette that few years before independence, person having very high character or possessing knowledge got all the respect and recognition of the whole society. Even rich to rich person used to respect that person. Now what has happened is that money has taken the place of character.

There is no special change but…

..

due

to it, prevailing condition of society and

what has happened, this is well known to you and me. But this state cannot be achieved by attaining money in one or two months. Now the alternative left is to do Mohan or Vashikaran prayog on someone….but on how many person this prayog can be done since we daily come across so many persons in our life. So why not do one sadhna process which automatically creates attraction

automatically within us. People see us and automatically become favorable. They do not create any problem without any reason and favor us .If such thing happens;

it is no less than any miracle… ..

But for this, we have to do so many sadhna. However, it is not about running away from sadhna. Sadgurudev has made many of us do so many high-order prayogs .Some of them like Brahmand Vashikaran prayog, Sampurna Charachar

Vashikaran Prayog, such prayogs which were done by Lord Shri Krishna and Lord

Buddha and they brought entire world under their control. But we considered only

this prayogs as normal and there may be lack of trust too…

..

This

was our

shortcoming. But now is the time to understand these prayogs.

But today when there is shortage of time then yantra sadhnas can prove to be boon for us, if we do it with full trust. Rules for making this yantra are like this. This can be created on any auspicious day or festival.

This yantra can be made only on Bhoj Patra.

Take bath in Morning and wear clean clothes

then

do this work.

Yellow dress and aasan

appropriate. Mixture of Red Sandal, Gorochan, Keshar and Kasturi should be used as ink for

writing on yantra. Use the stick of Jasmine for making yantra.

Worship it for 3 days after making yantra.

Remain celibate for these three days. After that, keep this yantra in amulet of triloh and wear it on your arm.As long as you wear this yantra, you can feel its affect automatically. Now worship the yantra by dhoop and deep for 3 days. How to do Sadgurudev Poojan, chanting Guru Mantra and doing Nikhil Kavach necessarily in both beginning and end is well known to everyone. There is no point repeating it.

===================================================

हर व्यक्ति चाहता हैं की वह लोक क्तिय हो, समाज मे ईसका अदर हो ,वह जहााँ जाए लोग ईसके

साक्तनध्य मे रहना

चाहे

और सभी के स्नेह का पात्र

हो .पर

कैसे यह संभव

हो जबकक चारो तरफ ऄब

क्तसफफ एक गुण का ही पररचम लहरा रहा हैं और वह हैं धन ...

 

सदगुरुदेव

एक केसेट्स मे

कहते हैं की अजादी के

, ज्ञानवान भी रहा

तो वह पुरे

चंद साल

पहले तक

क्तजनका भी चररत्र

ईच्च रहता

था या था

या होता था

समाज का स्वत ही अदर का पात्र

रहा , धनी से

धनी व्यक्ति भी ईसका अदर करता था ,

ऄब बस आतना हो गया

हैं की चररत्र की जगह

धन

ने ले ली हैं

.कोइ खास बदलाव नही हैं पर .. जानते समझते हैं .

आस कारण समाज

मे

अज

जो कुछ हैं या

जो हुअ हैं

वह हम और अप

पर एक कदन या महीने मे

तो

धन लाकर

यह ऄवस्था

नही लायी जा सकती

हैं . तो

ऄब दूसरा रास्ता

बचता हैं की

ककसी

पर मोहन या वशीकरण

ियोग करे ..

पर

ककतनो पर यह ियोग ककये जा

सकते हैं

जबकक कदन िक्ततकदन के जीवन मे ऄनेको लोगों से क्तमलना होता हैं .

 

तो क्यों नही साधना

का एक ऐसा क्तवधान कर क्तलया जाए

तो स्वतः हम मे

ही अकषफण

पैदा कर दे .

लोग

हमे

देखें और

स्वत

ही हमारे ऄनुकूल होते जाए

बेवजह

हमारे क्तलए समस्याए

न पैदा करें और

ऄनुकूलता भी दे ऄगर ऐसा

होता हैं तो यह भी कोइ चमत्कार

पर आसके क्तलए तो ककतना न साधना करनी पडेगी .हालाकक

से कम थोडी न हैं .

साधना

से

बचने की

बात

नही

हैं

सदगुरुदेव

जी ने

तो

एक से एक ईच्च कोरि के

ियोग हमारे मध्य ऄनेको को सम्पन्न

कराये

, हैं कुछ तो

ब्रह्माण्ड वशीकरण ियोग , समपूणफ चराचर

वशीकरण ियोग ,ऐसे भी ियोग क्तजन्हें भगवान श्री कृष्ण और

भगवान बुद्ध ने समपन्न

कर के

समपूणफ क्तवश्व को ऄपने

वशीभूत मे कर क्तलया

.पर हम ईन ियोगों को

एक सामान्य

सा ही समझते रहे या यूाँ कहाँ की

हैं ...

यही

हमारी

नुय्नता रही . पर ऄब समय

हैं की ईन ियोगों

क्तवश्वास की कमी की ऐसा भी हो सकता को समझे .

 

पर

अज जब समय की अत्याक्तधक कमी

हैं

तब

यन्त्र

क्तवधान की साधनाए हमारे क्तलए वरदान

क्तसद्ध

हो सकती

हैं

यकद

पुरे क्तवश्वास के साथ

आनको

करते हैं .

आस यंत्रके क्तनमाफण के क्तनयम आस िकार

हैं .

 

ककसी भी शुभ कदन या पवफ मे आसका क्तनमाफण कर सकते हैं .

 

इस

 

.

िातः काल स्नान करके स्वच्छ

वस्त्र धारण करके

यह

कायफ समपन्न

करें.

वस्त्र

और असन पीले

रंग

के

हो

कहीं ज्यादा

ईक्तचत होगा .कदशा ईत्तर की ईक्तचत होगी .

 

स्याही आस यंत्रलेखन के क्तलए –लालचंदन ,गोरोचन ,केशर और कस्तूरी से क्तमला कर बनायी गयी हो

. यंत्र लेखन के क्तलए चमेली की लकडी का ियोग करें .

यंत्र क्तनमाफण के बाद तीन कदन तक आसका पूजन करना हैं .

आस दौरान (आन तीन कदनों मे) ब्रम्हचयफ का पालन करे .

आसके बाद आस यन्त्र को क्तत्रलोह

के ताबीज के ऄंदर रख कर ऄपनी भुजा मे धा रण कर लेना

हैं , जब तक

यह यंत्र अप धारण करे रहेंगे तब तक अप आसका िभाव स्वत ऄनुभव करते रहेगे .

ऄब

यंत्र का

तीन कदन धूप दीप से पूजन करना हैं और सदगुरुदेव पूणफ पूजन , गुरू मंत्र

करना हैं और क्तनक्तखल कवच का सारी िकिया के िारम्भ और ऄंत मे क्यों ऄक्तनवायफ

का जप ककस िकार रूप से पाठ ककया

जाता हैं बार बार क्तलखने की अवश्यकता नही हैं यह तो सभी अप ,पहले से ही पररक्तचत हैं .

****NPRU****

भगवान बुद्ध ने समपन्न कर के समपूणफ क्तवश्व को ऄपने वशीभूत मे कर क्तलया .पर हमNikhil a t 6:21 AM 4 comments: Labels: SAMMOHAN SADHNA , VASHIKARAN PRAYOG , YANTRA RAHASYA Wednesday, May 16, 2012 - MITHAAYI MOHAN PRAYOG " id="pdf-obj-12-195" src="pdf-obj-12-195.jpg">

Wednesday, May 16, 2012

भगवान बुद्ध ने समपन्न कर के समपूणफ क्तवश्व को ऄपने वशीभूत मे कर क्तलया .पर हमNikhil a t 6:21 AM 4 comments: Labels: SAMMOHAN SADHNA , VASHIKARAN PRAYOG , YANTRA RAHASYA Wednesday, May 16, 2012 - MITHAAYI MOHAN PRAYOG " id="pdf-obj-12-211" src="pdf-obj-12-211.jpg">

जीवन की ननताांत गनतशीलता ूें ननत ननवन ीाधाओ का आवागून होता ही ॄहता हवैीतसतः सुी .

.ैृनतृो की नव

ाॄधॄा एाना आा ूें एलग होती ह

ॄ ोस नलर व ैाआॄक ूरुार रक साूीृ ीात है

लानकन कि ीाॄ रक साूीृ सा ूतुार ैृनत को ीहोत ही एनधक ना सााीडा ाहो

ा राता हरसी

.

नीकनत ूें एृो ृ घानारू का ननूाब

होता ह

ॄ ैृनत कि ीाॄ एाना

ॄ साूना वाला ैृनतका

रसी नवषू ाआॄनीकनत ूें घॄ ूें िलाश होता ह ै.नहतन

ांतन ही ीोड राता ह,ै ूाननसक तका शाॄीआॄक

ीवाी्ृ ैृनत खो राता हहैूाशा रक

काॄ सा व .््ृनत रसःखूृ नीकनत ूें ॄहना लगता होसै

काॄ

.

ॄ कि घानाओ ांूें ैृनत एाना जीवन सा घनई

त .रक खसशहाल नजरां गी रक ीोनजल जीवन ीन जाता है

काॄ सा राखा जार तो ृह नीकनत ए ृांत ही रक .हो कॄ जसा न

कॄना की

ाूें सांल न हो जाता है

ना

होती ह,ै एगॄ सूृ ॄहता ैृनत ोसको सांुाल ला तो निॄ रक साूाीृ सा ूतुार जीवन की

 

खसशहाली को नहीं ीीन सकताएगॄ साूना वाला ैृनत का नव

ाॄक को एनसकेल ीना नलृा जार तो ृह .

का नवनअुीन

नरृाओ ूें ूोहन रू का एाना रक एलग ही तां

ंा .ाआॄनीकनत सा सांुला जा सकता है

ूहत् व होैस

नरृा का एांतॄगत साधक साूना वाला ैृनत ाॄ

ृोग कॄ का जसका ूनोनव

ाॄ को

.

ोस

काॄ साूना वाला ैृनत ुी एाना जीवन ूें

ृोगकताब का एनसकेल हो .एाना एनसकेल ीना राता है

ूोहन शनत का ूायृू सा

ृोगकताब ैृनत को .ही ासांर कॄता ह ैकॄ ॄहनानजस ाॄ

ृोग नकृा गृा

ह ैजस ैृनत का नव

ाॄ तका जो ुी ूतुार ह ैजसको ैृनत का ूनीतष्क का ननकाल राता ह

ॄ जसका

ीकान ाॄ वही नव

ाॄ ॄहेंगा तो की एनसकेलता को ननूां

रााॄ

ृोग नकृा गृा ह

ूोहन रू ूें नजस .

 

वह ैृनत

ृोगकताब का आधीन नहीं होता ील्नक जसका नव

ाॄ को ननृांन

त कॄ लाता ह ैोस

काॄ ृह

ृोग जत्तू हृै

ृोग नकसी ाॄ .

ॄ ृह

ृोग ूें नकसी ुी

काॄ का कोि नसकशान ुी नहीं होता .

तां

ंा

ूें कि

काॄ का ूोनहनी

ृोग ह ै.सकता ह ैुी

कॄ जसका नव

ाॄक को एाना एनसकेल नकृा जा,

जासा की ताल ूोनहनी,

ूोनहनी, वस्त्र ूोनहनी ीतसत

ृोग .सी

ृोग की एानी एलग ूहत्ता होती ह ै.

लानकन नकसी .का जबायृ सा

ह ैकी व ैाआॄक ूतुार को रेॄ कॄ एाना जीवन को ससखूृ ीनाना

नननत ननृू नवाय ृा निॄ गलतूहाीा ला कॄ ृह

ृोग नकृा जार तो ोसूें ैृनत ाॄ सिलता नूलती

नहीं ह ै.

ोस

ृोग को कॄना का नलर साधक ता

ी नूठाि लार जो की रेध सा ीनी होसाधक

ाहा तो खसर ुी .

नजसूा रेध ोसूें नकसी ुी

काॄ की नूठाि का जाृोग नकृा जा सकता ह ै.नूठाि को ीना सकता है

साधक सोूवाॄ .ोाला गृा हो, गसावाॄ ृा ॄनववाॄ को ृा निॄ ग्रह

काल ूें नकसी ुी नरन ृह

ृोग

 

कॄ सकता हसै

ाधक ीनान आनर सा ननवतई

हो कॄ लाल वस्त्र .ीजा का ीार का ॄहा ११ सूृ ॄा

ी काल ूें .

०५ साधक को ूांगेा ूाला सा .तका ावेब नरशा की तॄि ूसख कॄ लाल आसान ाॄ ीठै

जार .को धाॄ

कॄा

हॄ ूाला स .ूाला नन न नलनखत ूां

की कॄनी हूैाप्त होना ाॄ साधक नूठाि ाॄ िांेक ूाॄा साधक हॄ .

० ूाला का ीार ११-१५ नूनना का नवश्राू ला सकता हसाधना ीकल ाॄ

ॄ कोि ना हो ोस ीात को ुी .

.ससनननरुत कॄना

ाॄी ह

ॐ ऐ ंह्रीं क्लीं ऄमकुं मोहय मोहय वश्य वश्य क्लीं ह्रीं ऐं नमः

OM AING HREENG KLEENG AMUKAM MOHAY MOHAY VASHY VASHY KLEENG

HREENG AING NAMAH

ोस ूां

ूें एूसकां की जगह ैृनत का नाू लाोस

काॄ ूां

जाा हो जाना का ीार साधक को

ानहर की .

रसे

ॄा नरन ही जस नूठाि को सायृ ैृती .कोि ैृनत ना खार वह नूठाि ससॄनंत ॄख रा तका जसा रेसॄा

को नखलार नजसा ूोनहत कॄनाहनैूठाि राता वत ृा जी वह ैृनत नूठाि खा ॄहा हो ती ून ही ून .

साधक

ाहा तो खसर ृा रेसॄा ैृनत का ूायृू सा नूठाि नखला .ीाॄ ज

ाॄ

कॄेंगा ७ ोस ूां

का वाास

यृ ैृनत ूें कसी ही नरन ूें नननरुत ना सा व ैाआॄक ाआॄवतबन आ जाता ह

एनसकेलता नूलती हसै

ाधक ूाला को नकसी रावी ूांनरॄ ूें ृका शनत रनं

.नूठाि ी

गि हो तो जसा

वानहत कॄ रा

ॄ साधक कोसा .सकता ह

ा का साक

डा रा तका एगॄ .

In the excessive dynamism of life, everyday new problems come and go. Actually,

every person’s ideology is different in itself and therefore it is quite natural to have

ideological differences. But many times a simple difference of opinion causes a lot of

distress to the person. In such a situation unworthy series of incidents are initiated

and person just stop thinking about the interest of himself and the other person. In

such a cumbersome situation, distress prevails in the house; person loses both

mental and physical health, person start staying in the sorrowful state. In this way, a

happy life becomes a burdensome life and in some incidents, person starts hating his

life and tries to end it.If we see it, this condition is very critical. If person handles this

situation in time then any normal difference of opinion can’t take away his happiness

of life. If the other person’s thoughts are made favorable, then person can rescue

himself from such situations. Mohan activity, which is one among the various

activities of Tantra Field, has got its own importance .In such an activity, sadhak

makes the thoughts of other person’s mind favorable to himself by doing Prayog on

him. In this way, other person also likes to be in favor of the person that did the

Prayog. Through the power of Mohan, the person takes out all the differences from

the mind of other person on whom the Prayog is done and in the place of such

thoughts, only those thoughts will remain which are conducive. In Mohan Prayog,

the person on whom the prayog has been done does not become slave of the person

who did the prayog. Only his thoughts are controlled. So this prayog is excellent and

in this prayog, there is no harm of any kind. There are many type of Mohini prayogs

in the field of Tantra like Tel Mohini (Mohan through oil), Itr Mohini (Mohini

Through scent) ,Vastra Mohini(Mohan through clothes).Every prayog has got its

own importance. The aim of the prayog mentioned here is very clear i.e. to resolve

the ideological difference and make your life happy. But if this is done on any

person with wrong intention and against the rules of morality, then person does not

get the success.

For doing this prayog, sadhak should bring the fresh sweet made up of milk. If

sadhak wants, he can prepare the sweet himself. Any type of sweet can be used in

which milk has been made use of. Sadhak can do this prayog on any Monday,

Thursday or Sunday or during eclipse time. Time would be after 11 P.M in the

night. After taking bath, sadhak should wear red clothes and sit on the Red Aasan

facing east. Sadhak should chant 50 rounds of this mantra with Munga Rosary. After

completing each round, sadhak should blow on the sweet. Sadhak can take rest for

5-10 minutes after every 21 rounds. Sadhak should make sure that no one else is

there at the place of sadhna.

OM AING HREENG KLEENG AMUKAM MOHAY MOHAY VASHY VASHY KLEENG

HREENG AING NAMAH

Use the name of person in place of “Amukam”.After completing the chanting of

mantra, sadhak should keep the sweets safely and make sure that no other person

should eat it.On the next day, he should offer sweet to the person (on whom the

prayog has been done).While offering the sweet or when that person is eating sweet,

sadhak should mentally chant this mantra 7 times. Sadhak can feed the sweets on his

own or by the means of any other person. Ideological change definitely starts coming

in the mind of the person (the object of your prayog) in few days .Sadhak starts

getting favorable results. Sadhak should offer the rosary in any Devi temple along

with dakshina and if sweet is left, then offer it in any river or pond.

..

OM AING HREENG KLEENG AMUKAM MOHAY MOHAY VASHY VASHY KLEENG HREENG AING NAMAH Use the name ज न .. … (Saral .. Tantra Sadhna Process to get desired Life Partner) भारतीय मक्तनक्तषयों ने मानव जीवन को सुचारू रूप से गक्ततशील बनाये रखने और समाज में एक क्तनरंतरता के साथ मयाफदा का पालन भी हो सके आसकेक्तलए ऄनेको संस्कार की कल्पना की .क्तजन्हें हम सोलह संस्कार के नाम से भी जानते हैं .पर अज आनमे से ऄनेको का पालन वेसे नही होता जैसे की होना चाक्तहये .ऄब न वेसे योग्य क्तवद्वान रहे न ही ईन संस्कारों को पालन करने लायक हमारा मानस ... पर कुछ संस्कारों का ऄक्तस्तत्व अज भी हैं ईनमे से िमुख हैं .. क्तववाह संस्कार .. जो जीवन की एक महत्वपूणफ घिना कही जा सकती हैं .क्तजस पर एक पूरे समाज की अधार क्तशला रहती हैं.पर आसके क्तलए योग्य जीवन साथी का होना जरुरी हैं . ऄनेको क्तवक्तधया हैं कफर चाहे कुंडली हो या ऄन्य .पर ऄगर कोइ मन को भा गया हैं तब क्या ... क्या तब भी कुंडली के पीछे दौडे ... खासकर ईस समय जब की ईसकी जन्म समय की शुद्धता के बारे में ही िशन क्तचन्ह हो .. और कफर िामाक्तणक क्तवद्वान न क्तमले जो सत्य क्तवश्लेषण कर सके तब .... हमारी आस सनातन संस्कृक्तत में क्या ईन ईच्चस्थ पुरुषों को यह न ज्ञात रहा होगा की कक्ततपय ऐसी भी क्तस्थक्तत भी बन सकती हैं ... की जब कोइ मन को भा गया.और ईसे ही ऄपने जीवन साथी के रूप में देखना चाहता हो तब .. देवर्षष नारद ने यह व्यवस्था दी की .जो िथम बार के दशफन में ही मन को भा जाए " id="pdf-obj-15-44" src="pdf-obj-15-44.jpg">

भारतीय मक्तनक्तषयों ने

मानव जीवन को सुचारू रूप से गक्ततशील

बनाये रखने और

समाज में एक

 

क्तनरंतरता

के साथ

मयाफदा का पालन भी हो सके

आसकेक्तलए ऄनेको संस्कार

की कल्पना

की .क्तजन्हें

हम

सोलह संस्कार

के नाम से भी

जानते हैं .पर

अज

आनमे से ऄनेको

का पालन वेसे नही होता

जैसे की होना

चाक्तहये .ऄब न वेसे योग्य क्तवद्वान

रहे न ही ईन संस्कारों को पालन करने लायक हमारा

मानस ...

पर

कुछ संस्कारों का ऄक्तस्तत्व अज भी हैं

ईनमे से

िमुख हैं ..

क्तववाह

संस्कार ..

जो

जीवन की

एक महत्वपूणफ घिना

कही जा सकती हैं .क्तजस पर

एक पूरे

समाज की अधार क्तशला रहती हैं.पर आसके

क्तलए योग्य जीवन साथी का होना जरुरी हैं . ऄनेको

क्तवक्तधया

हैं कफर चाहे कुंडली

हो या

ऄन्य .पर

 

ऄगर कोइ मन

को भा गया

हैं तब

क्या ...

क्या

तब भी कुंडली के

पीछे दौडे ...

खासकर

ईस समय

जब

की ईसकी जन्म समय की शुद्धता के बारे

में

ही िशन क्तचन्ह हो ..

और

कफर िामाक्तणक क्तवद्वान

न क्तमले

जो सत्य

क्तवश्लेषण कर सके तब ....

 

हमारी आस सनातन संस्कृक्तत में क्या ईन

ईच्चस्थ

पुरुषों को यह न

ज्ञात

रहा होगा की कक्ततपय ऐसी

भी

क्तस्थक्तत भी बन सकती हैं ...

की

जब कोइ मन को भा गया.और ईसे ही ऄपने जीवन साथी के

रूप में देखना

चाहता हो

तब ..

देवर्षष

नारद

ने

यह व्यवस्था

दी की .जो िथम

बार

के

दशफन में ही मन

को भा जाए

वही कन्या श्रेष्ठ

हैं जीवन साथी के

रूप में ..

क्योंकक

ईन्हें

तो जीवन के

हर क्तस्थक्तत

को ध्यान में रखना

था .अज के आस अधुक्तनक काल में यही समस्या

बहुत क्तवकि हैं.की कैसे योग्य जीवन साथी पाया जाए .

और

और

जहााँ योग्य हैं वहां वह अपके क्तलए तैयार

हो यह भी तो संभव नही .तब क्या ककया जाए??

यह ऄवस्था .ककसी पुरुष के क्तलए

स्त्री

पक्ष

की हो सकती हैं .

 

तो ककसी स्त्री के क्तलए ...

पुरुष

पक्ष

.. से हो सकती हैं .ऄथाफत

यह ियोग

दोनों के क्तलए ही लाभ दायक हैं .

पर ध्यान

में

रखने योग

बात हैं .यह

ककसी भी ईछंख्लाता

को बढावा देनेके क्तलए

नही हैं .जहााँ सच में

मनो भाव पक्तवत्र हो .ईनके क्तलए हैं यह साधना ...

क्योंकक

जब

कुछ

ओर शेष

बात

न हो तब ...

ऐसे समय ही साधना

की ईपयोक्तगता सामने अती हैं ध्यान रखने योग्य

हैं की हर साधना का एक

ऄपना ही ऄथफ हैं

और कोइ भी मंत्र

जप

व्यथफ नही

जाता

हैं आस

बात

को ककसी भी साधना करने से पूणफ

मन मक्तस्तष्क में ऄच्छे से ईतार लेना चक्तहये .

 

सदगुरुदेव जी ने आस तथ्य

को कइ कइ बार कहा हैं की लंबी साधनाओ

का

ऄपना

महत्व

आस कारण सरल और ऄल्प समय

वाली साधनाओ को

ईपेक्तक्षत

भी नही ककया जा सकता

तो हैं ही .पर हैं .

ऄनेको बार

यह सरल कम ऄवक्तध की साधनाए

बहुत तीव्रता से पररणाम

सामने ले अती हैं . आस ियोग

को क्तसद्ध करना जरुरी नही हैं ,पर हमारी आच्छा शक्ति और कायफ सफल

हो ही आस

कारण मात्र

दस

हजार जप कर क्तलया जाए तो सफलता की सभावना कहीं ओर भी बढ जाती हैं

क्तनयम :

मंत्र जप यकद करना चाहे तो केबल दस हजार .यह करने पर सफलता की सभावना कइ गुणा ऄक्तधक होगी .

पीले वस्त्र और पीले असन का ईपयोग

होगा .

कोइ भी

माला

का ईपयोग

ककया जा सकता

हैं .

ककसी भी शुभ कदन से सदगुरुदेव जी का पूणफ पूजन कर िारंभ कर सकते हैं .

सुबह या राक्तत्र काल में भी मंत्र

जप ककया

जा सकता

हैं .

कदशा

पूवफ या ईत्तर

हो तो ऄक्तधक श्रेष्ठ

हैं .

मंत्र ::

ओं ह्रीं कामातुरे काम मेखले क्तवद्योक्तषक्तण नील लोचने .........

वश्यं

कुरु ह्रीं

नम:||

Om hreem kamature kaam mekhle vidyoshini neel lochne …….vasyam kuru hreem

namah ||

जहााँ

पर

.... सम्पन्न करने के

हैं

वहााँ

पर आक्तच्छत

पुरुष या

बाद जब

भोजन करने

बैठे

स्त्री का नाम

ले कर मंत्र

जप

तो

जो भी पहला

ग्रास अप

करें . कफर

आस ियोग को

काह्ये

ईसे पहले सात

बार उपर कदए मंत्र से ऄभी मंक्तत्रत कर स्वयं ग्रहण कर ले . बहुत ही ऄल्प समय में अप आसका पररणाम देखसकते हैं .

 

पर

आस ियोग में यह अवश्यक हैं की

स्त्री पुरुष ..

जो

भी क्तजसके क्तलए ियोग कर रहा हो .ईनका अपस में

कहीं भी क्तमलने की सम्भावना तो होनी ही चक्तहये ...

==================================================

Indian saints, in order to ensure smooth functioning of society and to maintain

continuously the decorum in a society have imagined of various sanskars which are

usually known by the name of 16 sanskars. However, most of these sanskars are not

followed as they should be. Neither do we have the capable scholars nor do we have

the mind to follow this sanskars.But still, some of these sanskars do exist. The most

prominent among them is Vivah Sanskar ( Marriage) , which is very important

incident of anyone’s life. It is the foundation stone of any society, but for that able

life partner is necessary. There are many methods whether it’s horoscope or some

other. But if you start liking someone then what……still do we run after horoscope?

Especially when there are question marks about the correctness of horoscope or

when we can’t find an authentic scholar who can analyse it correctly… ..

Would high level persons in ancient sanatan culture have not taken cognizance of

the fact that there could be situation where you start liking someone and you want

him/her to be your life partner? Then Devrishi Naarad made an arrangement that

the girl whom one likes at very first sight is the best choice as life partner because

they had to keep in mind all the possible situation in life. In today’s modern times

also, the problem of getting a suitable life partner is grave.

And if you find a suitable match then there is no guarantee that he/she is ready to

acceptyou. Then what should one do?

And this condition can be with female side for any male, it can be with male side for

female…meaning thereby that this process is beneficial for both of them.

But one thing has to be kept in mind that this is not to promote any disharmony but

rather this sadhna is for those whose hearts are pure …….because when nothing can

be done then……

At such times the utility of sadhna comes into the picture. Important thing to take

note of is that every sadhna has its own meaning and any mantra chanting does not

go useless. We should imbibe this thing fully into our mind before doing any

sadhna.

Sadgurudev ji has revealed this fact multiple times that lengthy sadhnas have

importance of their own but we can’t neglect the simple and less time-consuming

sadhnas.

Many times, these simple less duration sadhnas yield result very quickly. There is no

need to siddh(accomplish) this process but in order to ensure that our willpower and

work is success, if this mantra is chanted 10000 times ,then possibility of our success

 

increases.

Rules:

Mantra Jap if one wants to do, then chanting 10000 amplifies your chance of success

multiple times.

Use yellow clothes and yellow aasan (mat).

Any rosary can be used.

One can start from any auspicious day after doing the complete poojan of

Sadgurudev.

Mantra Jap can be done in morning or night time.

If direct is east or north, then it is best.

Mantra:

ओं ह्रीं कामातुरे काम मेखले क्तवद्योक्तषक्तण नील लोचने .........

वश्यं

कुरु ह्रीं नम:||

Om hreem kamature kaam mekhle vidyoshini neel lochne …….vasyam kuru hreem namah ||

Where there is ……., there you should use the name of desired male or female.

After completing the process when one sits for eating the food, before having first

bite, chant the above mantra 7 times.

One can see the results in a very short period of time.

But it is important in this process that male or female…

..

whosoever is doing this

process for any person…there should definitely be some possibility of their meeting

each other anywhere.

 One can start from any auspicious day after doing the complete poojan of Sadgurudev. How to make again cordial relation with your own brother " याभ रक्ष्भण सी जोडी हैं इन बाइमों की" अफ आजकर कहाॉ सुनने भें आता हैं एक सभम मह आशीर्ााद तो घय के अग्रज औय र्मो र् द्ध ृ सबी को देते थे ऩय आज इस आधुननकता ने ऩता नह ॊ ककतने रयश्ते की गरयभा औय स्नेह औय आऩसी सद्भार् की फलर रे र हैं औय जो क ु छ रयश्ते अबी बी हैं र्ह बी धीये धीये अऩन अस्स्तत्र् र्चाने केलरए सघर् ा यत हैं , . कहाॉ औय ककसके ऩास सभम हैंकक इन शब्दों के अथ ा भें ऩड े जफ सबी अऩना स्र्ाथ ा ह ऩहरे देख यहे हो तफ .. " id="pdf-obj-18-61" src="pdf-obj-18-61.jpg">

"याभ रक्ष्भण

सी जोडी हैं

इन बाइमों

की"

अफ

आजकर कहाॉ सुनने भें

आता

हैं

एक सभम

मह आशीर्ााद

तो

घय के

अग्रज

औय र्मो

र् द्ध ृ

सबी को देते

थे

ऩय

आज इस आधुननकता

ने

ऩता

नह ॊ ककतने

रयश्ते

की

गरयभा औय स्नेह

औय आऩसी सद्भार् की

 

फलर

रे

र हैं

औय जो क ु छ रयश्ते

अबी

बी हैं र्ह बी

 

धीये

धीये

अऩन अस्स्तत्र्

र्चाने केलरए

सघर् ा यत

हैं, . कहाॉ

औय ककसके

ऩास

सभम हैंकक

इन शब्दों

के अथ ा

भें ऩड े

जफ सबी अऩना स्र्ाथ ा

ऩहरे

देख यहे

हो

तफ

..

 

ऩय मह

बी

तो सच हैं

की

जीर्न भें

ऩरयर्ाय भें

 

व्मनतगत

ता

भें साभस्जकता भें

अऩने

बाई का

स्नेह औय

मोगदान

मदद

रगाताय लभरता जाए तो

आजकर मह र्यदान स्र्रुऩ

ह हैं,

औय मदद

ककसी

कायण मा

अकायण र्श बाई

ह वर्योध भें खडा

हो जामे

तफ आऩकी ऩयेशानी

कई

गुना

फढ़ सकती हैं,

महाॉ

तक

की

मह

बाइमों की आऩस

न लभरना

घटना का ऩरयणाभ वर्बीर्ण का अऩभान

रकाऩनत यार्ण के लरए

 

ककतना

घातक फना,

यार्ण की हाय भें

वर्बीर्ण का ककतना सहमोग यहा

हभसबी जानते

हैं ह .

 

ऩय साधना हभाये इस

जीर्न

की प्रनतक ू रता

जैसे

 

मदद बाई

हभाया

शत्रु

हो गमा

हो तो अफ से

हभाये

अनुक र हो जाम

 

औय

मदद

अनु क ू र

होतो

र्ह सदैर् हभाये अनुक

ह यहे

इस

हेतु

कोई भाग ा ददखाती

हैं???,,क्मों नह ॊ

अनेको ऐसे

प्रमोग हैं जो

इस

सभस्मा को

फनने

देते

नह ॊ औय आऩका जीर्न ज्मादा सुखभम औय प्रसन्नता भम हय दृष्ट से हो

जाता हैं.

 

एक फात

सदैर् ध्मानभे

यखना चादहए

की

साधना

मदद फडी होगी

औय

अनेक उसभे

हो मा

क ु छ

कदिन वर्धान

हो तबी

परदामक

हो ऐसा कदावऩ नह ॊ हैं

र्स्तुत्

हभ सयर साधनाए

ज्मादा भनोमोगता

ऩूर्का

औय ज्मदा

सपरता ऩूर्का

कय सकते

हैं औय

इन छोट छोट सपरता से

उत्सादहत होकय

हभ

एक फडी

छराॊग बी रगा

सकतेहै.

 

घय के

एकाॊत कोने

को ऩहरे

अच्छी

तयह

से साप

कय रे

औय सॊबर् हो

तो

गोफय से र ऩ रे,

औय उस

ऩय

जफ

र्ह सुख जाए

तो आटे से एक

त्रत्रकोण फना

रे

कपय

इसके

फीच भें

अऩने

उस

बाई का नाभ

लरखे

स्जसे

आऩको अऩने अनुक र कयना हैं

औय

कपय

इस लरखे

गए नाभ ऩय

लसदयु नछडके

औय

इसी

नाभके

ऊऩय

कम्फर का आसन फना

कय

फैि

जामे

औय प्रनतददन 108 फाय भॊत्र जऩ

कयना हैं औय

सॊबर् होतो

घी

से हर्न बी

बी.

औय

जफ

तक आऩके

बाई

से आऩका

ऩहरे

जैसे हाददाक सम्फन्ध न

हो जामे

आऩ मह प्रमोग रगाताय कय सकते

हैं

भॊत्र :

विनोन

तप

योग सरन्क्ता सतोप

विषटाांग

र्त चन्कदन लऱपताांगा भ्ताना

च शुभ प्रदम,

****************************************************************************************

Thses brothers pair looks

like Ram , Lakshman

is

very hard to listen

in

thses days ,due to growing materialization and

modern society self

centeredness

many of the

relation Is not as

in

original form/nature as it

should be. , and many relation are in breathing his last . since when

everyone is only looking /concern for his own

and

not having time

for

other

than how

thses relationship

even between

very

close can flourish.

But its very

easy understand

that if one receive

cooperation

from his own

brother than

achieving success not only in professional world but in social

and in personal life is

quite

easy. and

if our

own brother is

creating problem

for us than one can also imagine the problem he has to face in every

aspect of life . its well known facts

that the result or our come of

brothers

fight/ non co operation often produces worst .

But is there any way so that we can always enjoy

the co operation

from our

own brothers or if our relation is not so good so that will be converted in

very healthy one.??? Why not there are so many prayog that creates

such an environment so developing chances of friction between brothers

becomes very less.

One should always note down or remember this facts that if sadhana

has

some long duration or having some very difficult mantra or some very great

procedure than

only

that will be

more

effective ,,no no

there is

no such

rules. The

real

facts is ,

we can

do simple and easier sadhana with much

more ease and comforts. And slowly and slowly we can jump over

for

the big success in sadhana life too.

Thoroughly clean any one corner of your home where people least go. and

also clean through cow dung .(gobar). When floor become dry , make a

triangle (through flour / aata ) and in between that triangle , write down the

your brothers name than sprinkle sindur over that. And place your kambal

aasan on that and sit down and daily you have to chant 108 times this

mantra and if possible some hawan with ghee .till you experience co

operation from your brothers.

Mantra :

Vinon tap yog sarankta satop vistaang

Rakt chandan liptaanga bhktana ch shubh pradm

****NPRU**** for our facebook group-http://www.facebook.com/groups/194963320549920/

****N P R U **** for our facebook group <a href=- http://www.facebook.com/groups/194963320549920/ Posted by Nikhil a t 1:55 AM 2 comments: Links to this post Labels: KAARYA SIDDHI SADHNA , VASHIKARAN PRAYOG Friday, September 30, 2011 To have happiness in domestic life ूानव जीवन ूा नकतना ही जीवन ूल्ेृक का ंृ लगाताॄ होता ॄहता ह ैं ॄ हॄ काल ूें ऐसा होता आृा ह ैं ॄ ृह नीलकसल ुी आरुृब जनक नहीं ह , ैं कुी आॄ का ूहत्त्व ह ैंतो कुी घन का , कुी ृह कहा जाता की ा जाृा ाॄ व न न जाृा तो कुी , ैृनित एानी आन का नलर ूॄ नूाना का नलर तृैाॄ हो जाता का , ऐसा नकतना न जराहॄ क सा ोनतहास ुॄा ाडा ह ैं.. ाहा आा ूहाॄा ा ताा का जराहॄ ही ला ला , काील कोोा सा एाना स ूान कू कॄ राता तो .. नकतना ना आॄाू नूलता ाॄ वह नहीं ूाना ,, आा ॄा ा साांगा को ला ला नजीहकना शॄीॄ ाॄ ६५ घाव का ीार ुी सॄ नहीं झसकाृा . वही गसा गोनवांर नसांह जी का ास ो का ीनलरान तो िृा कहा नकतना न ूहा ासाषक ना एाना खने सा हूाॄी ोस नवनवधता सा ुॄी सनातन ाॄांाॄा को सी ा . कैसा कैसा जराहाॄ ुॄा ाडा ह ैंनक हूाॄा " id="pdf-obj-22-18" src="pdf-obj-22-18.jpg">

Friday, September 30, 2011

****N P R U **** for our facebook group <a href=- http://www.facebook.com/groups/194963320549920/ Posted by Nikhil a t 1:55 AM 2 comments: Links to this post Labels: KAARYA SIDDHI SADHNA , VASHIKARAN PRAYOG Friday, September 30, 2011 To have happiness in domestic life ूानव जीवन ूा नकतना ही जीवन ूल्ेृक का ंृ लगाताॄ होता ॄहता ह ैं ॄ हॄ काल ूें ऐसा होता आृा ह ैं ॄ ृह नीलकसल ुी आरुृब जनक नहीं ह , ैं कुी आॄ का ूहत्त्व ह ैंतो कुी घन का , कुी ृह कहा जाता की ा जाृा ाॄ व न न जाृा तो कुी , ैृनित एानी आन का नलर ूॄ नूाना का नलर तृैाॄ हो जाता का , ऐसा नकतना न जराहॄ क सा ोनतहास ुॄा ाडा ह ैं.. ाहा आा ूहाॄा ा ताा का जराहॄ ही ला ला , काील कोोा सा एाना स ूान कू कॄ राता तो .. नकतना ना आॄाू नूलता ाॄ वह नहीं ूाना ,, आा ॄा ा साांगा को ला ला नजीहकना शॄीॄ ाॄ ६५ घाव का ीार ुी सॄ नहीं झसकाृा . वही गसा गोनवांर नसांह जी का ास ो का ीनलरान तो िृा कहा नकतना न ूहा ासाषक ना एाना खने सा हूाॄी ोस नवनवधता सा ुॄी सनातन ाॄांाॄा को सी ा . कैसा कैसा जराहाॄ ुॄा ाडा ह ैंनक हूाॄा " id="pdf-obj-22-31" src="pdf-obj-22-31.jpg">

ूानव जीवन ूा नकतना ही जीवन ूल्ेृक का ंृ लगाताॄ होता ॄहता ह ैं ॄ हॄ काल ूें ऐसा होता

आृा ह ैं

ॄ ृह नीलकसल ुी आरुृब जनक नहीं ह,ैं कुी

आॄ

का ूहत्त्व

ह ैंतो कुी घन का ,

कुी ृह कहा जाता

की

जाृा ाॄ व

न न जाृा

तो कुी , ैृनित एानी आन का

नलर ूॄ

नूाना का नलर तृैाॄ हो जाता का,

ऐसा नकतना न जराहॄ

क सा ोनतहास ुॄा ाडा ह ैं..

ाहा आा ूहाॄा

ताा का जराहॄ

ही

ला ला , काील कोोा सा एाना स ूान कू कॄ राता

तो

..

नकतना ना आॄाू नूलता

ाॄ वह नहीं ूाना ,, आा ॄा

साांगा

को ला ला नजीहकना

शॄीॄ ाॄ ६५

घाव का ीार ुी सॄ नहीं झसकाृा .

 

वही ीँ गसा गोनवांर नसांह

जी का

ास

ो का

ीनलरान

तो िृा

कहा

नकतना

न ूहा ासाषक

ना एाना खने

सा हूाॄी ोस नवनवधता सा ुॄी सनातन ाॄांाॄा को सी ा .कैसा कैसा जराहाॄ ुॄा ाडा ह ैंनक हूाॄा

सॄ ीवतः ही नत ूीतक हो जाता ह ैंनजीहकना हॄ हाल ूें ूानव ूल्ेृक की ॄंा की

साूना एाना जीवन को रक जराहॄ का ना ूें ॄखा ,,

ॄ हूाॄा

ाॄ आज का हूाॄा सूाज की ृह नीकनत ह ैंनक ृहाीँ जीवन ी ाना ही सीसा ीडा लक्ष्ृ ॄह गृा

ह ैं "ृान कान

काॄा

"

एाना ीवाकब

ीस नसय

हो जाृा ,, ीस ..

 

ाॄ हू सुी

ृह ूानता

तो ह ैंनक कसी आॄयतो की ानव

ता ाॄ

ुी यृान ॄखा जाृा

ॄ ृका सांुव

जस की गआॄूा की ुी ..

जहाीँ तक हो सका ,,िृकनक ृनर हू साॄा ुा ॄ ोन आॄयतो को ूानना का काील

ाॄ ही ॄख रागा

तो गलत ह.ैं..

ॄ काील रक ही ां

ववैानहक जीवन ूें जीवन साकी का ूहत्त्व तो कू नहीं ह ैं...

ाॄ एी ृह आॄयता ुी एानी गआॄूा खो ॄहा ह ैं. आधसननकता की ुाा ढ़ ॄहा ह ैं.

एनाक शास्त्र काॄो ना जी ुॄ ुॄ कॄका "नाॄी" को ही सूीत ीजो का नलर रोषी ठहॄाृा ह ैं,कोि ना

जसा ााा की गठॄी कहा तो कोि ना कसी ाॄ सी ृह नलखता हुर ुले गृा की जसी ना एाना ॄत सा

जीहें सी ा , एान

ूाांस खने रान नकृा तुी जीू ला ाार , जसना ृनर जीहें ीोलना ृा ाढना ना

नसखाृा होता तो आज वा ोस ,,,,

सरगसाराव जी ना ुी ोस ीात का नलर जस कनताृ शास्त्रकाॄो की ीहुत आलो ना की ह.ैं .

नकसी कालूा ृह कहा गृा का की

" स्त्री आॄ ासाष ुा ृू रावो न जानती कसतो ूनसष्ृा "

शाृर आज की ाआॄनकनतृाीँ राखता

तो जन सी को ूजीॄे

हो कॄ नलख ना

ही ाड जाता

की

"ासाषीृ आॄ रावो ना जाननत कसतो ूनसष्ृा "

स ाि शाृर कोवी हो

ाॄ आा सुी जानता ह ैं ही

ाॄ हूाॄी ुाॄतीृ ीनहनक का

नलर

एुी ुी ोस स ीीध ीहुत स ूान

तो ह ैंही ाॄ रक तॄिा ीनाह

का िृा

कोि एकब ह ैं?

ाॄ ॄो

ॄो

घॄ ूा

ल ॄही लोाि झगडा

का काॄ

जी जीवन नॄक सूान हो ॄहा

हो तो ृह रक

ीोाा सा

ृोग

जो आाका

जीवन ूें कसी तो ूधसॄता ला आरगा "

िृकनक जीवन नक साॄी ॄ सूीत नीकनत का ननॄाकॄ ीस रक ीोाा सा ृोग सा सांुव नहीं ह ैं,

निॄ ुी ,,आाका नलर ृह लाुराृक ही होगा .

काील नकसी ुी शसु नरन ोस ूां की १५ ूाला ूी जा कॄें ॄ साधाॄ साधना ूक ननृू का

ाालन कॄा नरन ॄात /ूाला .आसन /वस्त्र का नलर कोि ननृू नहीं ह ैं..

मंत्र : ॐ नमो महा यक्षिण्यै मम पक्षि में वश्य ं

कुरु कुरु स्वाहा |

कफर आस मंत्र से ११ बार ऄक्तभमंक्तत्रत

करके

आलाक्तयची

या जो

भी

खाद्य

पदाथफ

हो

अप ऄपने जीवनसाथी क्तखला दे धीरे धीरे अपने जीवन में ऄनुकूलता अएगी ही

**************************************************************************************

Now

a

days

The value

of

some

basic rules are continuously decreasing

in human

life,

and this phenomena is/was true in

all

era.

And there

is

the

way of life,, sometimes

character has the life,, sometimes finance has

the

value , sometimes speaking

word has more

value than the

life

of

the

person, and

people

are/were

ready

to

offer his

life over his respect,

how

many such an examples are the part of our history .

You can take example

from the life of maharana pratap , if he was

ready

to

sacrifice some of his respect than he could easily

enjoy the many blessing of

life, , but he

did

not,

take rana sangas

life in spite

of 60 severe

wounds on

his body he was not ready to accept defeat .

 

And

the

great

sacrifice

of

the sons

of guru govind

singh ji

,,,

how

many great person offered their life only for

the

cause

that some

basic values still remains

,

and

we

can

have some insight that

who

we

are and are part of great culture and .just

to read their

works and their life

its

very natural that we will pay

great respect to them.

But in modern way of life ,

how to save the

life a great question

..

and every

body doing whatever he can do

to have his work done. at any cost

This we all believe that

the purity and respect of some of the relation should be

maintained.

 

But

to

maintain

all

theses

thing

if

we

place whole burden

on

one

side

only than it would not be justice.

 

In married life

 

the importance of

your partner cannot underestimated.

 

But this relation are now the fire of modern way of life.

 

And

many shstrkaar blindly

blame nari

(woman) for

every bad

work

,

some say

s

she

is

the

basic

root

of

all

evil

,,,like

that

so

many

baseless things but

all

those forget that

she

is

the

one

who

gave birth

to

them,

and

she

is

the

responsible of

giving

blood

and flesh to them. And

taking care and gave speaking ability of them is a also

a gift of her ,if she would not

do that than

Sadgurudev

ji also many times highly criticized such shastrkaar.

In any era this has been written that

the

character

of woman

and fortune

knows than how can person know.

of

man

even

dev not

But

if they

were

here seeing

the modern

life

than

surely they

would

have written

 

The character of a man even dev can not know than how can any person.

Though word are little bit hard but the reality we all know, already.

When there are many disputes

 

among

partner than this

small prayog

Is not

claiming that it will solve all the

problem but surely can give you some relief ,

since all

the bad

and worst situation

solving

is beyond

the

capacity

of this small prayog.

 

Even though this will help

you

.

In any auspicious day do jap of 10 round of rosary (mala) of this mantra, and

there is no other restriction of rosary type/ time/ aasan/cloths colour etc.

Mantra : om

namo maha yakshinyai mam pati me vashyam

kuru kuru swaha ||

And after that take any ilaychi and do abhimantrikaran with 11 times reciting

of this mantra and any means give your partner and slowly slowly you will

have relief in some problem in your domestic life.

****NPRU****

But if they were here seeing the modern life than surely they would have written “Nikhil a t 9:10 PM 2 comments: " id="pdf-obj-26-120" src="pdf-obj-26-120.jpg">

Wednesday, September 28, 2011

Labels: <a href=VASHIKARAN PRAYOG , YAKSHINI SADHNA Wednesday, September 28, 2011 Vashikaran Prayog through Bhagwaan Ganesh Sadhana " वशीकॄ रक ूां ह ैंतज रा व न कठोॄ " , ाॄ ूीठी ीोलना वाला को ृा तो ैं ाालसे कहा जा ता ह ृा निॄ कूजोॄी की सांज्ञा री जाना लगी ह ैं , तो एी िृा नकृा जाृा , ृह स ृ ह ैंाौाषता ॄ जीवन ाॄ ैृनत का दृढ़ ननृां होना ही ानहर , ाॄ ूधसॄ वा ी का एाना ही सौीरृब ह ैंही , ाॄ कुी कुी ाआॄनीकनत ऐसी नननूबत हो जा ती ह ैं की आाका सुी तीॄ ननशाना ाॄ नहीं लग ॄहा हो , ती आा िृा कॄेंगा नकतना सूझार , नकतना ूनाृा , ाॄ जी आाका कोि न ृ आाकी ीात सूझना को तृैाॄ ही न हो ॄहा हो , ॄ ठीक ऐसा ही ही ती जी हूाॄा कोि सहृोगी हूाॄी काृों ूें एाानंत सहृोग न रा ॄहा हो , ती िृा कॄें . जहाीँ साू राू रांो ुार सुी नविल होता नरख ॄहा हो , ती जीवन की , एाना ाआॄवाॄ की , एानी खसनशृक की ससॄंा कॄना का नलर ृनर आा ोन ृोगक का सहाॄा ला ता ह ैंतो ृह नकसीुी दृ ी सा एनसन त नहीं होगा , हू नकसी की खसशी ीीन तो नहीं ॄहा ह ैंन सरगसाराव कहता ह ैं ोन ृकगो की रक एानी ही सत्ता ह ैंरक एाना ही सांसाॄ ह ैं ॄ जीहें हाृ दृ ी सा नहीं राखना ानहर , ृनर हू नकसी की ीाीसी ॄ कूजोॄो का िाृरा ृनर ोन ृोगक का ूायृू सा नहीं जठा ॄहा ह ैंतो , ृनर एाना जीवन को एनसकेल ीना ॄहा हो तो .. सरगसाराव ना एनाको सकता ह ैं , ृोग ोस सीरुब ूें नरर ह ैं ही आा ूां तां ृी नवज्ञानां का एनाको एांक ूें राख " id="pdf-obj-27-11" src="pdf-obj-27-11.jpg">

"वशीकॄ रक ूां

ह ैंतज रा व

न कठोॄ ", ाॄ ूीठी ीोलना वाला

को ृा तो

 

ैं

ाालसे

कहा जा ता ह

ृा निॄ कूजोॄी की सांज्ञा री जाना लगी ह ैं, तो एी िृा नकृा जाृा , ृह स ृ ह ैंाौाषता ॄ जीवन

ाॄ ैृनत का दृढ़ ननृां होना ही ानहर , ाॄ ूधसॄ वा ी का एाना ही सौीरृब ह ैंही , ाॄ कुी कुी

ाआॄनीकनत ऐसी नननूबत हो जा ती ह ैं की आाका सुी तीॄ ननशाना ाॄ नहीं लग ॄहा हो , ती आा िृा

कॄेंगा

नकतना सूझार , नकतना ूनाृा , ाॄ जी आाका कोि न ृ आाकी ीात सूझना को तृैाॄ ही न हो

ॄहा हो , ॄ ठीक ऐसा ही ही ती जी हूाॄा कोि सहृोगी हूाॄी काृों ूें एाानंत सहृोग न रा ॄहा

हो , ती िृा कॄें . जहाीँ साू राू रांो ुार सुी नविल होता नरख ॄहा हो , ती जीवन की , एाना

ाआॄवाॄ की , एानी खसनशृक की ससॄंा कॄना का नलर ृनर आा ोन ृोगक का सहाॄा ला ता ह ैंतो ृह

नकसीुी दृ ी सा एनसन त नहीं होगा , हू नकसी की खसशी ीीन तो नहीं ॄहा ह ैंन

सरगसाराव

कहता ह ैं ोन

ृकगो की

रक एानी ही सत्ता ह ैंरक

एाना ही सांसाॄ ह ैं

ॄ जीहें हाृ दृ

सा नहीं राखना

ानहर , ृनर हू नकसी की ीाीसी

ॄ कूजोॄो का िाृरा ृनर ोन

ृोगक का

ूायृू

सा नहीं जठा ॄहा ह ैंतो , ृनर एाना जीवन को एनसकेल ीना ॄहा हो तो ..

सरगसाराव ना एनाको

सकता ह ैं,

ृोग ोस सीरुब ूें नरर ह ैं ही आा ूां

तां

ृी

नवज्ञानां का

एनाको एांक ूें राख

नकसी ुी

ृोग को कॄता सूृ आाकी ूनोुाव कैसी ह ैंजस ाॄ ही तो नाका ह ैंसाधना का सौीरृब ,

ॄ हू सुी सरगसाराव का

आ ूांश ह ैं तो ुला हू कुी कैसा ,साूानजक ूृाबरा , का

एनसन

त कोि

काू कॄेंगा , सरगसाराव ुगवान् ना हूें हूाशा रक सससांयकाआॄत ,सअृ , ृो ृ

ॄ ीनाह ुॄा साधक

ीनना को कहाीँ ह ैं,न की एाना घूांो ूें ोेीा हुर गनलृा रा रा कॄ ीात कॄना वाला , ाॄ हूें ृह ुी नहीं

ुलेना

ानहर की जीहकना सवाबनधक नकसी ैृनत का जराहॄ

नरृा ह ैंतो वह ुगवान श्र कईष्

का

ही , वह ोसनलर की रक सीूा का ीार

निॄ ...

हूसुी का नलर तो हूाॄा नाता (सरगसाराव )का जीवन सा ज्ृारा ॄ िृा ूागब रशबन रा सकता ह ैं.

जनका जीवन का रक रक ाीना , रक रक एंॄ , रक रक ाल हूाॄा नलर तो ही का न ..

जनका ानव

जीवन ीवृां ही हू ी ो का जीवन की नरशा को ूागब नरखाता ॄहागा , ोसी ुावना को साूना ॄख कॄ

ृह ए ृनधक सॄल

ृोग आा सुी ुािीनहनक का नलर ..

ॐ ग्लौं रक्त गणपतय ेनमः

साधना ूक ननृू :

·

आाकी नरशा :जत्तॄ/ावेब होनी

ानहर .

·

ृह

ृोग आा ,

ीँ ृह ुगवान

ाश सा स ीांनधत ह ैं एतः ीसध वाॄ सा

ाॄांु नकृा जा सकता

ैं.

·

आसन

ॄ वस्त्र लाल ॄांग का

होना

ानहर

·

.ोस ूां

का ूांगे

ा की ूाला सा

होना

ानहर .

·

आाको

नतनरन १५ ूाला ूां

जा १५ नरन कॄना

ानहर ,

ोस

ृोग

को

सिलता

ावेबक

कॄना

का

ीार जी

नॄ ाडा ती ोन ीत ैृनत की तीवीॄ साूना ॄखता हुर १५ ूाला का ोस ूां

सा जाा कॄना ाॄ

ैृनत ूनोकसल हो जाता ह

आज का नलर ीस ोतना ही

********************************************************************

“vashikaran ek mantra hain taj de bachan kathor “ roughly meaning is that

,if you are a soft and polite spoken so definitely people attracts

towards

you,

so secret of vashikaran is that avoid harsh and rough word to

anyone., but

the person who speak very softly sweetly often consider weak.

Or this is consider as a sign of his/her weakness. It’s true that person

should speak forcefully but sweet spoken style has a own beauty . but

sometimes such a scene or circumstances created that all your effort fails or not

producing the result. Than what you will do.

How many times or how much ,you can give explanation to your near and dear

one but when he/she refused to listen. And that also applicable to

your

colleague , in work place ,when he is not willing to help you. Than what to do??

.where nothing seems to work, then to protect your family, your life ‘s happiness

, if you go for such a prayog than nothing

happiness from any other.

wrong in it . we are not snatching

Sadgurudev used to say that theses prayog has their own value , a

unique world and should not consider that with low respect. If we are not

taking undue advantage of any one’s problem and circumstances , we

are just making our life little easier than ..

Sadgurudev has given so many prayog in this relation in the magazine

mantra tantra yantra vigyan. You can see your self.

While attempting any prayog,

what is your feeling and will and mindset is

the

basic foundation on that depends the beauty of sadhana, and if we are the soul

part of Sadgurudev ji than how can, we ever do any

work .that is not as per

common society rules, Sadgurudev Bhagvaan always advised us to be a sadhak

who well cultured, polite , and filled with sneh/love, so he never advocated

that we should be like those sadhak who used to abuse any body and totally

immersed in their own ego. But this also be remember that

the one

person about whom, he give many example is Bhagvaan shri Krishna , that

is only ,,since up to a point everything is fine and ok , if any one crosses the limit

than…

For all of us what more be valuable, what will be more guiding star compare to

our common father life (Sadgurudev). each moment ,each minute, second , and

each page of his divine life is only and only for us. his

such a pure divine life

itself a guide light for all of his children like us, keeping this feeling this simple

prayog for all of you.

Om gloum rakt

ganpatye

namah

General rules:

Direction should be north east facing.

As this prayog is related to Bhagvaan ganesh

than start with any

Wednesday.

Clothes and aasan should be of red color.

Each day you have to chant 10 round of rosary (10 mala)per day for 10

days.

Mantra jap should be done by red colored munga mala.

When this prayog successfully completed than place any desired person’s

photograph in front of you and do only 10 round of rosary , than he will

be more cooperative to you.

This is enough for today

****NPRU****

General rules:  Direction should be north east facing.  As this prayog is related toNikhil a t 11:42 PM No comments: Labels: GANPATI SADHNA , VASHIKARAN PRAYOG Sunday, September 4, 2011 NISHCHIT MANOVANCHHIT PREM PRAPTI SADHNA " id="pdf-obj-30-57" src="pdf-obj-30-57.jpg">

Sunday, September 4, 2011

मानव जीवन का सबसे महत्वपूणफ और बहुमूल्य भाव है िेम !!!! जो जीवन में दबे पांव

मानव जीवन का सबसे महत्वपूणफ और बहुमूल्य भाव है िेम !!!! जो जीवन में दबे पांव अता है और पूरे

जीवन और व्यक्तित्व को ही अमूल चूल पररवर्षतत कर देता है lयकद मानव संवेदना से क्तवहीन भी हो तो

तब भी ईसकी संवेदना को पूरी तरह जगा ही देता हैlअप पररवार के साथ ही जन्मते हो,बढते हो और

ऄपने जीवन के नवीन अश्चयों से दो-चार भी होते हो ,पर जैसे ही िेम अपके जीवन में अहि देता है

ऄचानक ईस व्यक्ति क्तवशेष को छोडकर बाकी सब अपको क्तनरथफक लगने लगता है l

पर क्या मात्र जीवन में िेम होने से ही जीवन को पूणफता िाप्त हो जाती है ? नहीं ऐसा क्तबलकुल नहीं

हैllll बक्तल्क सच्चाइ ये है की िेम का जो स्वरुप हमने ईसके िारंभ में देखा था,वही समय के साथ िगाढ

होता चला जायेlllतभी िेम की साथफकता कही जाती है l

पर ऄक्सर ऐसा होता नहीं है lमैंने ऄब तक लगभग ७०,००० से ज्यादा हाथ और जन्मकुंडक्तलयों

का ऄध्यन ककया है lऔर िेम िकरण में मैंने लगभग ९६% िेम क्तववाह और िेम िकरण में ऄसफलता

ही देखी है

...

कफर

वो चाहे क्तववाह के पहले हो या क्तववाह ईपरांतlदोनों ही क्तस्थक्तत में क्तसफफ भग्न

ह्रदय,एक ईदास क्तनश्वांस और जीवन भर की िूिन क्तलए हुए लोगो को देखा हैlllऔर साथ ही ये वाक्य

भी की “िेम जैसा कुछ भी नहीं होता है”l ये मात्र छलावा है और कुछ नहीं l और ऐसा कहना कुछ गलत

भी नहीं होता है lक्यूंकक ऄक्सर हम अकषफण को िेम की संज्ञा दे देते हैं जो पूरी तरह गलत कहा

जायेगाl िेम एक तरणा हो ही नहीं सकता

....

क्यूंकक वेदना का बीज ही रोक्तपत हो जाता है ,यकद व्यक्ति

ज्योक्ततष शास्त्र में ऐसे कइ योग क्तनरुक्तपत ककये गए हैं जो की िेम संबंधों में ऄसफलता को दशाफते हैंl

और िेम सम्बन्ध का लेना देना क्तववाह के पहले नहीं ऄक्तपतु जीवन के अक्तखर तक होता है,ईसी का

जीवन सुखी कहा जाता है और ईसी के जीवन में अनंद का िवाह होता है ,क्तजसे ताईम्र िेम भाव का

स्थाक्तयत्व क्तमले खुद के जीवन मेंl क्तववाह के पहले भी और क्तववाह के बाद भी lपरस्पर एक दुसरे के िक्तत

िबल समपफण और खुशी देते रहने की भावना ही िेम की साथफकता कहलाती है l

परन्तु िश्न ये है की ऐसी अनंद की क्तस्थक्तत की िाक्तप्त कैसे हो सकती है????

नीचे ईसी ियोग को मैं अप सभी भाइ-बहनों के समक्ष रख रहा हाँl जो ‘रक्तत अमोद तंत्र’ में वर्षणत हैlये

तंत्र काम भाव और िेम के ऐसे ऐसे रहस्यों को ऄपने अप में समेिे हुए क्तजनका वणफन भी मन को

ऄत्यक्तधक अह्लाकदत कर देता है l यकद ये कहा जाए की िेम और काम भाव की पूणफ िाक्तप्त की कुंजी ही

है ये ग्रन्थ तो ऄक्ततक्तसयोक्ति नहीं होगीl वस्तुतः ये तंत्र क्तमश्र तंत्र ही कहा जायेगा ,क्तजसमे क्तवक्तवध िकार

की साधनाओं का संकलन ककया गया है l सभी साधनायें एक से बढ कर एक और सभी िेम भाव की

पूणफ िाक्तप्त से सम्बंक्तधतl

और सबसे बडी क्तवशेषता ये है की ये जीवन के तृतीय ऄक्तनवायफ पुरुषाथफ ‘काम’ के भी समस्त

व्यवधानों और क्तवकारों की समाक्तप्त आन ियोगों के माध्यम से होती ही है l और आन साधनाओं और

ियोगों की एक क्तवशेषता मुझे हर दम अश्चयफ में डाल देती थी की ये ियोग कदाक्तप वशीकरण ियोग

नहीं हैं, या ये ककसी एक को अप के वशीभूत नहीं करते हैं ,बक्तल्क ये ईन वणफ क्तवन्यासो से रक्तचत हैं जो

साधक और ईसके ऄभीष्ट आन दोनों को ही एक दुसरे के िक्तत पूणफ समर्षपत कर देते है l और ये साध्य और

साधक के मक्तष्तष्क पर िभाव ना डालकर ईनके

ऄन्तः मन को ही पूणफ ऄनुकूल करते हैं क्तजससे की

प्यार का ये िभाव ईन दोनों के क्तचत्त पर ऄनंत काल तक स्थाक्तयत्व पा सकेl आस ग्रन्थ में वर्षणत ियोगों

को और ईनके िभावों को मैंने कइ बार परखा है l सदगुरुदेव की सन्यासी क्तशष्या सौंदयाफ मााँ के पास

मैंने ये ग्रन्थ देखा था और ईन्ही से आसके ियोगों के क्तवधान को मैंने हृदयंगम ककया था l

क्या क्या करते हैं ये ियोग:-

जब अप ककसी से पूणफ ह्रदय से िेम करते हो,और वो अपकी ईपेक्षा कर रहा हो l

जब अप परस्पर िेम करते हों और क्तववाह में बाधा अ रही हो l

जब ऄचानक दांपत्य जीवन क्तबखरने लगे और ईसमे से अनंद सुख समाप्त ही हो गया हो l

जब ऄचानक हमारा साथी ककसी दुसरे की तरफ अकर्षषत होने लग जाये l

जब हमें ये समझ में नहीं अ रहा हो की हम क्तजसके साथ चल रहे हैं ,वो िेम कर रहा है या मात्र दोस्ती

क्तनभा रहा है l

जब हमारा क्तिय क्तमत्र हमसे रूठ कर दूर जा रहा हो .

जब हम पूणफता के साथ पूरे जीवन भर िेम भाव से युि रहना चाहते हो l

जब हमारा िेम हम हमारे सदगुरुदेव के चरणों में पूणफता के साथ ऄर्षपत करना चाहते हो और पूरी तरह

ईनके श्री चरणों में ऄपने अपको समर्षपत रखना चाहते हो l

जब हम सौंदयफ की पूणफ िाक्तप्त करना चाहते हो ऄपने जीवन में l

जब हम ऄप्सरा,योक्तगनी और यक्तक्षक्तणयों का पूणफ साहचयफ पाना चाहते हो और आसके पूवफ हमें आन