Vous êtes sur la page 1sur 46

रचनाकार http://rachanakar.blogspot.

com/ क तु त :

जन-गण-मन
जे ' ज' क ग़ज़ल

भू मका
सम 'जन-गण-मन' क ग़ज़ल
'जन-गण-मन' सप
ु र चत ह द ग़ज़लकार जे ' ज' क छ पन (56) ग़ज़ल का पहला
संकलन है.
ग़ज़ल जैसे फ़ारसी-उद ू के का य- प के त ह द म जो नया वातावरण तैयार हआ ु
है, न य ह इसका मख
ु ेय वग य द ु यंत कमार
ु को जाता है. हालाँ क द ु यंत कमार

के पहले, ह द म ग़ज़ल रचना का शभारं
ु भ हो चका
ु था. केवल आधु नक यग
ु क ह बात
कर तो भारते द,ु ब नारायण चौधर , ताप नारायण म ,नाथू राम शमा 'शंकर', जय शंकर
' साद' नराला, डा. शमशेर बहादरु सं ह, लोचन,जानक व लभ शा ी,बलबीर सं ह 'रं ग'
आ द ने ह द ग़ज़ल के त अपनी च और रचना का प रचय दया था . ले कन, उ
क वय क ग़ज़ल जन-मानस म आटे म नमक क तरह का ह भाव उ प न कर सक ं.
ह द ग़ज़ल को एक यगा
ु तरकार का य वधा के प म त त करने का ेय द ु यंत
कमार
ु को ह जाता है . ले कन 1975 म द ु यंत के अनायास दे हावसान के दस वष बाद तक
भी कछ
ु लोग कहते रहे क ह द ग़ज़ल द ु यंत-काल म ह क़दमताल कर रह है.ऐसे
कथन नि त ह आ ह से यु एवं अ त यो पण
ू थे. द ु यंत कमार
ु के दे हावसान-काल
से अब तक द ु नया भी आगे बढ़ है और ह द ग़ज़ल भी . जीवन, समाज, सं कृ त,और
यथाथ के अनेक प रपे य का उ ाटन हआ
ु है. चेतना के नये तर क न म त हई ु है.
कला-सा ह य के े म अभ य क नई चनौु तयाँ उभर ह. यथाथ पहले से अ धक
सघन एवं संि हआ
ु है.
िजन संजीदा ह द ग़ज़लकार ने , मंच या न बाज़ार
् का ह सा न बनते हए
ु ,
अनशासन
ु ,एका ता और आ यं तकता के साथ दे श के भ न- भ न ह स म बैठकर
अ छ ग़ज़ल कह ह- उस फ़ेह र त म ग़ज़लकार जे ' ज' का नाम सस मान
शा मल कया जा सकता है., य क वे वगत तेइस वष से मारं डा (पालमपरु) ,रोहड़ू,
हमीरपरु, कांगड़ा और धमशाला जैसे पवतीय े म नवास करते हए ु अ छ ग़ज़ल कह
रहे ह- जहाँ व तत
ु : ग़ज़लगोई का कोई उ साह-वधक माहौल नह .ं न संदेह,
'ये फल
ू स त चटान के बीच खलते ह
ये वो नह ं िज ह माल क दे खभाल लगे.'
जे ' ज' अँ ेज़ी के ा यापक ह-व ज़वथ,क स, शैल से ले कर आधु नक आँ ल-
सा ह य के अ येता. ग़ज़ल केवल उनक वैचा रक- भावभू म क ह अ भ य नह ं, उसे
कला मक- तर पर भी उ ह ने आ मसात कया है. जे क ग़ज़ल म एक वशेष
क़ म क आंत रकता, समझ, सला हयत, सू मता और सघनता को महसस
ू कया जा
सकता है.ये बात सच है क जे ' ज' ग़ज़ल के मामले म कसी 'उ ताद' के फेर म
नह ं पड़े. फर भी, गज़ल को ले कर उनक िज ासाएँ, उनके अ वेषण, उनके योग को, वे
दे श के गणी
ु ग़ज़लकार से मल- बाँटकर,समझते-बझते
ू … प करते रहे ह. इसके कहने के
े म अपने-आपको 'ता लब-ए-इ म' ( व ाथ ) समझते रहने क सहजता उनके रचनाकार
-क़द को बढाती ह है.
भाषाई तर पर जे ' ज' द ु यंत -कल
ु के ग़ज़लकार ह. ह द और उद ू के बीच
संतुलन क़ायम करने वाले. जे क ग़ज़ल का भाषाई- लहज़ा सादा और साफ़ है. दस
ू रे
श द म कह तो ये ग़ज़ल ह द ु तानी ठाठ क ग़ज़ल ह .
जहाँ तक शे'र म परसी गई वषय-व तु का सवाल है तो ज ' ज' का 'कै वस' क़ाफ़
व तत
ृ है. जैसा क ग़ज़ल-सं ह के शीषक से प है -उनक ग़ज़ल सम 'जन-गण-मन'
क ग़ज़ल ह.सामािजक, राज न तक,सां कृ तक एवं आ थक मोच पर तमाम बेचैन सवाल
उठाती हु . ऐसा नह ं है क पहाड़ म रहकर ज पहाड़ क बात नह ं करते. ले कन
उनका 'पहाड़' हमाचल तक सी मत नह .ं जा त, मज़हब,रं ग,न ल औए फ़रक़ापर ती क
सयासत के ख़लाफ़ भी उनका ग़ज़लकार तन कर खड़ा है. पहाड़ क क ठन िज़ दगी म
ख़न
ू (पसीने) से सींचे गए खेत क उपज का बँटवारा ठ क-ठ क होने क चेतावनी भी उनके
शे'र म है. कल
ु मला कर, उनक ग़ज़ल ग तशील और जनवाद चेतना से लैस जाग क
ग़ज़ल ह .,जो क पल क शैल म प ल वत होती ह. उनके अ दर ग़ज़ल क
का या मकता क हफ़ाज़त करने क अ व ांत च ता भी दखाई दे ती है-जो न संदेह
वागत-यो य है.

ज़ह र क़रे
ु शी
14 जनवर , 2003
(मकर सं ां त)
समीर काटे ज, बी-21 सयनगर
ू ,
श द ताप आ म के पास
वा लयर-474012(म य दे श)

1.
ख़द
ु तो ग़म के ह रहे ह आ माँ पहाड़
ले कन ज़मीन पर ह बहत
ु मेहरबाँ पहाड़

ह तो बल
ु द हौसल के तजुमाँ पहाड़
पर बेबसी के भी बने ह कारवाँ पहाड़

थी मौसम क मार तो बेशक बडी शद द


अब तक बने रहे ह मगर स त-जाँ पहाड़

सीने सलग
ु के हो रहे ह गे धआँ
ु -धआँ

वालामखी
ु तभी तो हए
ु बेज़बाँ पहाड़

प थर-सलेट म लटा
ु कर अि थयाँ तमाम
मानो दधी च-से खड़े ह िज मो-जाँ पहाड़

न दय ,सरोवर का भी होता कहाँ वजद



दे ते न बादल को जो तज़-बयाँ पहाड़

वो तो रहे गा खोद कर उनक जड़ तमाम


बेशक रहे ह आदमी के सायबाँ पहाड़

सीन से इनके बज लयाँ,सड़क गज़र


ु ग
वन,जीव,ज तु,बफ़,हवा,अब कहाँ पहाड़

कचरा,कबाड़, लाि टक उपहार म मले


सैला नय के ' ज', हए
ु ह मेज़बाँ पहाड़

2.
अँधेरे चंद लोग का अगर मक़सद नह ं होते
यहाँ के लोग अपने आप म सरहद नह ं होते
न भलो
ू , तमने
ु ये ऊँचाईयाँ भी हमसे छ नी ह
हमारा क़द नह ं लेते तो आदमक़द नह ं होते

फ़रे ब क कहानी है तु हारे मापद ड म


वगरना हर जगह बौने कभी अंगद नह ं होते

तु हार यह इमारत रोक पाएगी हम कब तक


वहाँ भी तो बसेरे ह जहाँ गु बद नह ं होते

चले ह घर से तो फर धप
ू से भी जझना
ू होगा
सफ़र म हर जगह सु दर- घने बरगद नह होते

3.
बंद कमर के लए ताज़ा हवा लखते ह हम
खड़
़ कयाँ ह हर तरफ़ ऐसी दआ
ु लखते ह हम

आदमी को आदमी से दरू िजसने कर दया


ऐसी सािज़श के लये हर ब ुआ लखते ह हम

जो बछाई जा रह ह िज़ दगी क राह म


उन सरंु ग से नकलता रा ता लखते ह हम

आपने बाँटे ह जो भी रौशनी के नाम पर


उन अँधेर को कचलता
ु रा ता लखते ह हम

ला सके सब को बराबर मंिज़ल क राह पर


हर क़दम पर एक ऐसा क़ा फ़ला लखते ह हम

मंिज़ल के नाम पर है िजनको रहबर ने छला


उनके हक़ म इक मस
ु सल फ़ सफ़ा लखते ह हम

4.
बराबर चल रहे हो और फर भी घर नह ं आता
तु ह यह सोचकर लोगो, कभी या डर नह ं आता

अगर भटकाव लेकर राह म रहबर नह ं आता,


कसी भी क़ा फ़ले क पीठ पर ख़ंजर नह ं आता

तु हारे ज़े म गर फ़ मंिज़ल क रह होती


कभी भटकाव का कोई कह ं मंज़र नह ं आता

तु हार आँख गर पहचान म धोखा नह ं खाती


कोई रहज़न कभी बन कर यहाँ रहबर नह ं आता

लहू क क़ मत गर इस क़दर म द नह ं होतीं


लहू से तर-ब-तर कोई कह ं ख़ंजर नह ं आता

अगर ग लय म बहते ख़न
ू का मतलब समझ लेते
तु हारे घर के भीतर आज यह लशकर नह ं आता

तु हारे दल सलगने
ु का यक़ ं कैसे हो लोग को,
अगर सीने म शोला है तो य बाहर नह ं आता

5.
हर क़दम पर खौफ़ क सरदा रयाँ रहने लग
क़ा फ़ल म जब कभी ग़ ा रयाँ रहने लग

नीयत बद और कछ
ु बदका रयाँ रहने लग
सरहद पर य न गोलाबा रयाँ रहने लग

हर तरफ़ लाचा रयाँ,दशवा


ु रयाँ रहने लग
सरपर ती म जहाँ म का रयाँ रहने लग

हर तरफ़ ऐसे हक़ म क अजब-सी भीड़ है


चाहते ह जो यहाँ बीमा रयाँ रहने लग
फर खराफ़त
ु के ह जंगल य न उग आएँ वहाँ
जे म अकसर जहाँ बेका रयाँ रहने लग

य न सच आकर हलक म अटक जाए कहो


गरदन पर जब हमेशा आ रयाँ रहने लग

उनक बात म है िजतना झठ


ू सब जल जाएगा
आपक आँख म गर चं गा रयाँ रहने लग

है महक मम
ु कन तभी सारे ज़माने के लए
सोच म ' ज', कछ
ु अगर फलवा
ु रयाँ रहने लग.

6.
यह उजाला तो नह ं 'तम' को मटाने वाला
यह उजाला तो उजाले को है खाने वाला

आग ब ती म था जो श स लगाने वाला
रहनमा
ु भी है वह आज कहाने वाला

रा ता अपने ह घर का नह ं मालम
ू िजसे
सबको मंिज़ल है वह आज दखाने वाला

एक बंजर-सा ह र बा जो लगे है सबको


वो हथेल पे भी सरस है जमाने वाला

िजसक मज़ ने तबाह के ये मंज़र बाँटे


था मसीहा वो यहाँ ख़द
ु को बताने वाला

जबसे काँट क तजारत ह फल -फल


ू है
कोई मलता ह नह ं फल
ू उगाने वाला

रतजग के सवा या वाब क सरत


ू दे गा
हा दसा रोज़ कोई नींद उड़ाने वाला

उँ ग लयाँ फर वो उठाएँगे हमारे ऊपर


फर से इ ज़ाम कोई उन पे है आने वाला

जा-ब-जा उसने छपाए


ु ह कई फर कछए

फर से ख़रगोश को कछआ
ु है हराने वाला

िजन कताब ने अँधेर के सवा कछ


ु न दया
है कोई उनको यहाँ आग लगाने वाला

य भला शब क सयाह का बनेगा वा रस


धप
ू हर श स के क़दम म बछाने वाला

ख़द
ु ह जल-जल के उजाले ह जटाए
ु िजसने
वो अँधेर का नह ं साथ नभाने वाला

आईना ख़द
ु को समझते है बहतु लोग यहाँ
आईना कौन है ' ज', उनको दखाने वाला.

7.
पर को काट के या आसमान द िजएगा
ज़मीन द िजएगा या उड़ान द िजएगा

हमार बात को भी अपने कान द िजएगा


हमारे हक़ म भी कोई बयान द िजएगा

ज़बान, ज़ात या मज़हब यहाँ न टकराएँ


हम हज़र
ु ू , वो ह दो तान द िजएगा

रह ह धप
ू से अब तक यहाँ जो नावा क़फ़
अब ऐसी बि तय पे भी तो यान द िजएगा

है ज़लज़ल के फ़सान का बस यह वा रस
सख़न
ु को आप नई -सी ज़बान द िजएगा

कभी के भर चक
ु े ह स के ये पैमाने
ज़रा-सा सोच-समझकर ज़बान द िजएगा

जो छत हमारे लए भी यहाँ दला पाए


हम भी ऐसा कोई सं वधान द िजएगा

नई कताब बड़ी दलफ़रे ब है ल कन


परानी
ु बात को भी क़ दान द िजएगा

जनँ
ु ू के नाम पे कट कर अगर है मर जाना
ये पजा
ू कसके लए, य अज़ान द िजएगा

अजीब श है शहर-ए-वजद
ू भी यारो
क़दम-क़दम पे जहाँ इ तहान द िजएगा

क़लम क न क पे ह तत लयाँ याल क


क़लम के फल
ू को वो बाग़बान द िजएगा

जो हु नो-इ क़ क वाद से जा सके आगे


ख़याल-ए-शायर को वो उठान द िजएगा

ये शायर तो नमाइश
ु नह ं है ज़ म क
फर ऐसी चीज़ को कैसे दकान
ु द िजएगा

जो बचना चाहते हो टट
ू कर बखरने से
' ज', अपने पाँव को कछ
ु तो थकान द िजएगा

8.
हमार आँख के वाब से दरू ह र खे
सवाल ऐसे जवाब से दरू ह र खे

सलगती
ु रे त पे चलने से कैसे कतराते
जो पाँव बट
ू -जराब
ु से दरू ह र खे

हनर
ु तो था ह नह ं उनम जी-हज़र
ु ू का
इसी लए तो ख़ताब से दरू ह र खे
तमाम उ वो ख़शब
ु ू से ना-शनास रहे
जो ब चे ताज़ा गलाब
ु से दरू ह र खे

वो िज़ दगी के अँधेर से लड़ते पढ़- लख कर


इसी लए तो कताब से दरू ह र खे

हमारा सानी कोई मयकशी म हो न सका


अगरचे सार शराब से दरू ह र खे

ये ब चे याद या रखगे ' ज', बड़े हो कर


अगर न खन
ू -ख़राब से दरू ह र खे.

9.
इ ह ं हाथ ने बेशक व का इ तहास ल खा है
इ ह ं पर चंद हाथ ने मगर सं ास ल खा है

हमारे सामने पतझड़ क चादर तमने


ु फैलाई
तु हारे उपवन म तो सदा मधमास
ु ल खा है

जहाँ तम
ु आजकल स प नता के गीत गाते हो
अभाव का वहाँ तो आज भी आवास ल खा है

फ़रे ब क कहानी पर यक़ ं कैसे हो आँत को


तु हारे आ ासन ह, इधर उपवास ल खा है

अँधेरे बाँटना तो आपक फ़तरत म शा मल है


उजाल का हमारे गीत म उ लास ल खा है

बताओ कस तरह बदल हम उलझी भा य-रे खाएँ


बनाएँ घर कहाँ ' ज', वो िज ह बनवास ल खा है.

10.
तहज़ीब यह नई है , इसको सलाम क हए
'रावण' जो सामने हो, उसको भी 'राम' क हए

जो वो दखा रहे ह , दे ख नज़र से उनक


रात को दन सम झए, सबह
ु को शाम क हए

जादगर
ू म उनको , अब है कमाल हा सल
उनको ह 'राम' क हए, उनको ह ' याम' क हए

मौजद
ू जब नह ं वो ख़द
ु को खदा
ु सम झए
मौजदगी
ू म उनक , ख़द
ु को ग़लाम
ु क हए

उनका नसीब वो था, सब फल उ ह ने खाए


अपना नसीब यह है, गठल
ु को आम क हए

िजन-िजन जगह पे कोई, ल ला उ ह ने क है


उन सब जगह को चेलो, गंगा का धाम क हए

बेकार उलझन से गर चाहते हो बचना


वो जो बताएँ उसको अपना मक़ाम
ु क हए

इस दौरे -बेबसी म गर कामयाब ह वो


क़दरत
ु का ह क र मा या इंतज़ाम क हए

द तरू का नभाना बं दश है मयक़दे क


जो ह गलास ख़ाल उनको भी जाम क हए

बदबू हो तेज़ फर भी, क हए उसे न बदबू


'अब हो गया शायद, हमको ज़काम
ु ' क हए

यह मु क का मक़
ु र, ये आज क सयासत
मु लाओं म हई
ु है , मग़
ु हराम क हए

' ज' स ब म के ह, वो जो कह सो बेहतर


बासी ग़ज़ल को उनक ताज़ा क़लाम क हए
11.
जो पल कर आ तीन म हमार हमको डसते ह
उ ह ं क जी-हज़र
ु ू है ,उ ह ं को ह नम ते ह

ये फ़ ल पक भी जाएँगी तो दगी या भला जग को


बना मौसम ह िजन पे रात- दन ओले बरसते ह

कई स दय से िजन काँट ने उनके पंख भेदे ह


प र दे ह बहत
ु मासम
ू उ ह ं काँट म फँसते ह

कह ं ह ख़न
ू के जोहड़ , कह ं अ बार लाश के
समझ अब ये नह ं आता ये कस मंिज़ल के र ते ह

अभागे लोग है कतने इसी स प न ब ती म


अभाव के िज ह हर पल भयानक साँप डसते ह

तु हारे वाब क ज नत म मं दर और मि जद ह
हमारे वाब म ' ज" सफ़ रोट - दाल बसते ह.

12.
हुज़ूर, आप तो जा पहँु चे आसमान म
ससक रह है अभी िज़ दगी ढलान म

ढल है ऐसे यहाँ िज़ दगी थकान म


यक़ न ह न रहा अब हम उड़ान म

जले ह धप
ू म, आँगन म, कारख़ान म
अब और कैसे गज़र
ु हो भला मकान म

हई
ु ह मु त आँगन म, वो नह ं उतर
जो धप
ू ् रोज़ ठहरती है सायबान म
जगह कोई जहाँ सर हम छपा
ु सक अपना
हम अब भी ढँू ढ फरते ह सं वधान म

हज़ार हादस से जझ
ू कर ह हम िज़ दा
दबे ह रे त म मलबे म या खदान म

उसे तू लाख चपाने


ु क को शश कर ले
वो दर तो साफ़ है ज़ा हर तेरे बयान म

हए
ु यँू रात से वा क़फ़ क शौक़ ह न रहा
सहर क शोख़ बयार क दा तान म

चल जो बात चराग़ का तेल होने क


हमारा िज़ भी आएगा उन फ़सान म.

13.
जाने कतने ह उजाल का दहन होता है
लोग कहते ह यहाँ रोज़ हवन होता है

मंिज़ल उनको ह मलती है कहाँ द ु नया म


रात- दन सर पे बँधा िजनके क़फ़न होता है

जब धआँ
ु साँस क चौखट पे ठहर जाता है
तब हवाओं को बलाने
ु का जतन होता है

खोटे स के क कोई मोल नह ं था िजनका


आज के दौर म उनका भी चलन होता है

बस यह वाब फ़क़त जम
ु रहा है अपना
ऐसी धरती क जहाँ अपना गगन होता है .

14.
कटे थे कल जो यहाँ जंगल क भाषा म
उगे ह आज वह च बल क भाषा म

सवाल िज़ दगी के टालना नह ं अ छा


दो टक
ू बात करो फ़ैसल क भाषा म

जो य होते रहे सफ़ आँ धय क तरह


वो काँपते भी रहॆ ज़लज़ल क भाषा म

नद को पी के सम दर हआ
ु खमोश मगर
नद क बहती रह कलकल क भाषा म

हज़ार दद सहो लाख सि तयाँ झेलो


भरो न आह मगर घायल क भाषा म

रहे न यथ ह चप
ु ठँू ठ सखे
ू पेड़ के
सलग
ु उठे वह दावानल क भाषा म

भले ह िज़ दगी मौसम रह हो पतझड़ का


कह है हमने ग़ज़ल क पल क भाषा म.

15.
पृ तो इ तहास के जन-जन को दखलाए गए
खास जो संदभ थे ,ज़बरन वो झठलाए
ु गए

आँख पर बाँधी ग ऐसी अँधेर प याँ


घा टय के सब सनहरे
ु य धँध
ु लाए गए

घाट था सब के लए ले कन न जाने य वहाँ


कछ
ु त त लोग ह चन
ु - चन
ु के नहलाए गए

साथ उनके जो गए ह लोग उनको फर गनो


ख़द
ु -ब-खद
ु कतने गए और कतने फसलाए
ु गए
जब कह ं ख़तरा नह था आसमाँ भी साफ़ था
फर प र दे य यहाँ सहमे हए
ु पाए गए

आदमी को आदमी से दरू करने के लए


आदमी को काटने के दाँव सखलाए गए

िज़ दगी से भागना था ' ज', दबकना


ु नीड़ म
मंिज़ल तक वो गए जो पाँव फैलाए गए

16.
बेशक बचा हआ
ु कोई भी उसका 'पर' न था
ह मत थी हौसला था प र दे को डर न था

धड़ से कटा के घमते
ू ह आज हम िजसे
झकता
ु कभी ये झठ
ू के पैर पे सर न था

कदम क धल
ू चाट के छना
ू था आसमान
थे हम भी बाहनर
ु मगर ऐसा हनर
ु न था

भला
ू सहर का शाम को लौटा तो था मगर
जाता कहाँ वो घर म कभी मु तज़र न था

सरज
ू का एहतराम कया उसने उ भर
िजसका कह ं भी धप
ू क ब ती म घर न था

उसने हम मटाने को माँगी ज़ र थी


यह और बात है क दआ
ु म असर न था

मंिज़ल हमार ख़ म हई ु उस मक़ाम


ु पर
सहरा क रे त थी जहाँ कोई शजर न था.

17.
दे ख, ऐसे सवाल रहने दे
बेघर का ख़याल रहने दे
तेर उनक बराबर कैसी
तू उ ह तंग हाल रहने दे

उनके होने का कछ
ु भरम तो रहे
उनपे इतनी तो खाल रहने दे

मछ लयाँ कब चढ़ ह पेड़ पर
अपना न दया म जाल रहने दे

या ज़ रत यहाँ उजाले क
छोड़, अपनी मशाल रहने दे

भल
ू जाएँ न तेरे बन जीना
बि तय म वबाल रहने दे

कात मत दे रहा है आम ये पेड़


और दो -चार साल रहने दे

िजसको चाहे ख़र द सकता है


अपने खीसे म माल रहने दे

वो तझे
ु आईना दखाएगा ?
उसक इतनी मज़ाल, रहने दे

काम आएँगे सौदे बाज़ी म


साथ अपने दलाल रहने दे

छोड़ ख़रगोश क छलाँग को


अपनी कछए
ु =सी चाल रहने दे .

18.
उनका व तार ह नह ं होता
तू जो आधार ह नह ं होता
बीच मँझधार ह नह ं होता
तू जो पतवार ह नह ं होता

बंद मु ी म मोम रहता तो


व न साकार ह नह ं होता

मार खाता अगर न साँचे क


मोम आकार ह नह ं होता

हर क़दम पर ठगा गया फर भी


तू ख़बरदार ह नह ं होता

जो शरण म गनाह
ु करता है
वो गनहगार
ु ह नह ं होता

बेच डालगे वो तेर द ु नया


तझ
ु से इनकार ह नह ं होता

जो खबर ले सके सतमगर क


अब वो अखबार ह नह ं होता

मु तिज़र है उधर तेरा सा हल


फर भी तू पार ह नह ं होता

जब प र दे कतर
ु सके पं जरा
यह चम कार ह नह ं होता

जो मखौटा
ु कोई हटा दे ता
तो वो अवतार ह नह ं होता

' ज', तू इस िज़ दगी क बाह म


य गर तार ह नह ं होता
19.
कसी के पास वो तज़ -बयाँ नह ं दे खा
सह -सह जो कहे दा ताँ नह ं दे खा

दखा रहे ह अभी इसको 'सोन- च ड़या' ह


हमार आँख से ह दो ताँ नह ं दे खा

शराफ़त के मक़ा
ु बल हज़ार शा तर ह
अब इस से स त कोई इ तेहाँ नह ं दे खा

त ल मी रौशनी से जझते
ू भी या पंछ
कभी िज ह ने खला
ु आ माँ नह ं दे खा

रहे वो काम पर आए-गए कई मौसम


कह ं फर उन-सा कोई स त-जाँ नह ं दे खा

थे उसके हु म के पाब द कटघरे सारे


डरे गा कटघर से हु मराँ नह ं दे खा

उसे तो काटना था पेड़ बस महल के लए


टके थे पेड़ पर भी आ शयाँ नह ं दे खा

वो आ गया है हम अब तसि लयाँ दे गा


हमारा आग म जलता मकाँ नह ं दे खा

खड़े थे धप
ू म तनकर, बने रहे बरगद
सर पे िजन के कोई सायबाँ नह ं दे खा

उ ह ने बाँट दया, मज़हब म द रया को


तट को जोड़ता पल
ु दर याँ नह ं दे खा

लपट के ख़दु से ह रोए बहत


ु अकेले म
कह ं जो दल का कोई राज़दाँ नह ं दे खा
पलाए जो हम पानी हमारे घर आकर
अभी कसी ने भी ऐसा कआँ
ु नह ं दे खा

ये मु क बढ़ रहा है पू छए न कस जा नब
बग़ैर मंिज़ल के कारवाँ नह ं दे खा नह ं दे खा

खदाया
ु , ख़ैर हो, ब ती म आज फर हमने
कसी के घेर से भी उठता धआँ
ु नह ं दे खा

बहस के मु ओं म मौलवी थे, पं डत थे


वहाँ ' ज', आदमी का ह नशाँ नह ं दे खा.

20.
नींव जो भरते रहे ह आपके आवास क
िज़ दगी उनक कथा है आज भी बनवास क

िजन प र द क उड़ाने कु द कर डाल ग


जी रहे ह ट स लेकर आज भी नवास क

तोड़कर मासम
ू सपने आने वाल पौध के
नींव र खगे भला वो कौन से इ तहास क

वह उगी ,काट गई, र द गई, फर भी उगी


दे वदार क नह ं औकात है यह घास क

वह तो उनके शोर म ह डब
ू कर घु ता रहा
क़हक़ह ने कब सनी
ु दा ण कथा सं ास क

तब यक़ नन एक बेहतर आज मल पाता हम
पोल खल
ु जाती कभी जो झठ
ू के इ तहास क

आपके ये आ ासन परेू ह गे जब कभी


तब तलक तो सख
ू जाएगी नद व ास क
अन गनत मायू सय , ख़ामो शय के दौर म
दे खना ' ज', छे ड़ कर कोई ग़ज़ल उ लास क .

21.
आपक क ती म बैठे , ढँू ढते सा हल रहे
सोचते ह अब क हम तो आज तक जा हल रहे

बि तय को जो मला है आपसे ख़ैरात म


उसम अ सर नफ़रत के ज़हर ह शा मल रहे

जब गनहगार
ु के सर पर आपका ह हाथ है
वो तो मंु सफ़ ह रहगे , वो कहाँ क़ा तल रहे ?

िज़ दगी कछ
ु आँकड़ का खेल बन कर रह गई
और हम इन आँकड़ का दे खते हा सल रहे

मु त से हम तो यारो ! एक भारतवष ह
आप ह पंजाब या क मीर या ता मल रहे

आपसे जड़
ु कर चले तो मंिज़ल से दरू थे
आपसे हट कर चले तो जा नब-ए-मंिज़ल रहे .

22.
उसके इरादे साफ़ थे, उसक उठान साफ़
बेशक उसे न मल सका ये आसमान साफ़

बेशक लगे ये आपको भी आसमान साफ़


दे खी नह ं वो पाँव के नीचे ढलान साफ़

उनको है चा हए यहाँ सारा जहान साफ़


घर साफ़, ब ती साफ़, मक न-ओ-मकान साफ़
नीयत ह साफ़ और न जब थी ज़बान साफ़
होता कहाँ फ़र उनका कोई भी बयान साफ़

सारे गनाह
ु क़ा तल के फर करे मआफ़

फर कर सबत
ु ू वो गम
ु सब नशान साफ़

घेरे हए
ु हज़र
ु ू को ह जी-हज़र
ु ू जब
कैसे सनगे
ु ाथना या फर अज़ान साफ़

उसका क़सर
ु ू इतना ह था वो था च मद द
आँख से रौशनी गई मँुह से ज़बान साफ़ .

23.
सामने काल अँधेर रात गराती
ु रह
रौशनी फर भी हमारे संग ब तयाती रह

वाथ क ध कनी वो आग सलगाती


ु रह
गाँव क संद
ु र ज़मीं पर क़हर बरपाती रह

स य और ईमान के सब तक थे हारे -थके


भख
ू मनमानी से अपनी बात मनवाती रह

बेसहारा झिु गय के सारे द पक छ न कर


चंद फ़मान क ब ती झमती
ू - गाती रह

खरदरे
ु हाथ से लेकर पाँव के छाल तलक
रो टय क कामना या- या न दखलाती रह

रा ता पहला क़दम उठते ह तय होने लगा


रा त क भीड़ बेशक उसको उलझाती रह .
24.
अगर वो कारवाँ को छोड़ कर बाहर नह ं आता
कसी भी स त से उस पर कोई प थर नह ं आता

अँधेर से उलझ कर रौशनी लेकर नह ं आता


तो मु त से कोई भटका मसा
ु फ़र घर नह ं आता

यहाँ कछ
ु सर फर ने हा दस क धंुध बाँट है
नज़र अब इस लए दलकश कोई मंज़र नह ं आता

जो सरज
ू हर जगह संद
ु र- सनहर
ु धप
ू लाता है
वो सरज
ू य हमारे शहर म अ सर नह ं आता

अगर इस दे श म ह दे श के दशमन
ु नह ं होते
लटेु रा ले के बाहर से कभी ल कर नह ं आता

जो ख़द
ु को बेचने क फ़तरत हावी नह ं होतीं
हम नीलाम करने कोई भी त कर नह ं आता

अगर ज़ु म से लड़ने क कोई को शश रह होती


हमारे दर पे ज़ु म का कोई मंज़र नह ं आता

ग़ज़ल को िजस जगह ' ज', चटकल


ु ु -सी दाद मलती हो
वहाँ फर कोई भी आए मगर शायर नह ं आता .

25.
फ़ ल सार आप बेशक अपने घर ढलवाइए

चंद दाने मेरे ह से के मझे
ु दे जाइए

तैर कर ख़द
ु पार कर लगे यहाँ हम हर नद
आप अपनी कि तय को दरू ह ले जाइए
रतजगे मिु कल हए
ु ह अब इन आँख के लए
ख़ म कब होगी कहानी ये हम बतलाइए

कब तलक चल पाएगी ये आपक जादगर



प याँ आँख पे जो ह अब उ ह खलवाइए

ये अँधेरा बंद कमरा, आप ह क दे न है


आप इसम क़ैद हो कर ची खए च लाइए

सच बयाँ करने क ह मत है अगर बाक़ बची


आँख से दे खा वहाँ जो सब यहाँ लखवाइए

फर न जाने बादशाहत का बने या आपक


नफ़रत को दरू ले जाकर अगर दफ़नाइए.

26.
सबह
ु -सबह
ु यहाँ मरझाई
ु हर कल बाबा !
ये दन म रात-सी कैसी है अब ढल बाबा !

उतार फकेगा अपनी वो कचल बाबा !


वो श स िजसको समझता है तू वल बाबा !

हए
ु थे पढ़ के िजसे तम
ु कभी वल बाबा !
कताब आज वो हमने भी बाँच ल बाबा !

याल तेरे पराने


ु , नया ज़माना है
उतार फक परानी
ु तू कंबल बाबा !

सयाह रात को हम दन नह ं जो कह पाए


मची है तब से ह मह फ़ल म खलबल बाबा !

गज़ार
ु द है यँू काँट पे िज़ दगी हमने
न रास आएगी अब राह मखमल बाबा !

उ ह ने फक दया ऐसे अपने ईमाँ को


क जैसे साँप उतारे है कचल बाबा !

गया ज़माना जहाँ ' झठ


ू ' 'सच' से डरता था
बना है झठ
ू का अब सच तो अदल बाबा !

हवा चल है ये कैसी क सब के सीन पर


हर इक ने तानी है ब दक
ू क नल बाबा !

बयान अ न के, खेत म आग के गोले


समझ म आई नह ं बात दोग़ल बाबा !

सबतू गम
ु हए
ु सारे गवाह बी गम
ु -सम

गनाह
ु पालने क अब हवा चल बाबा !

ये हर क़दम पे नया इक फ़रे ब दे ती है


नगोड़ी िज़ दगी है कोई मनचल बाबा !

27.
जो लड़ जीवन क सब संभावनाओं के ख़लाफ़
हम हमेशा ह रहे उन भू मकाओं के ख़लाफ़

जो ख़ताएँ क ं नह ं , उन पर सज़ाओं के ख़लाफ़


कस अदालत म चले जाते ख़दाओं
ु के ख़लाफ़

िजनक हमने ब दगी क , दे वता माना िज ह


वो रहे अ सर हमार आ थाओं के ख़लाफ़

ज़ म तू अपने दखाएगा भला कसको यहाँ


यह सद प थर-सी है संवेदनाओं के ख़लाफ़

सामने हालात क लाएँ जो काल सरत



ह कई अख़बार भी उन सचनाओं
ू के ख़लाफ़

ठ क भी होता नह ं मर भी नह ं पाता मर ज़
क िजए कछ
ु तो दवा ऐसी दवाओं के ख़लाफ़

आदमी से आदमी, द पक से द पक दरू ह


आज क ग़ज़ल ह ऐसी वजनाओं के ख़लाफ़

जो अमावस को उकेर चाँद क त वीर म


थामते ह हम क़लम उन तू लकाओं के ख़लाफ़

र रं िजत सु ख़याँ या मातमी ख़ामो शयाँ


सब गवाह दे रह ह कछ
ु ख़दाओं
ु के ख़लाफ़

आ ख़र प े ने बेशक चम
ू ल आ ख़र ज़मीन
पर लड़ा वो शान से पागल हवाओं के ख़लाफ़

'एक दन तो म उड़ा ले जाऊँगी आ ख़र तु ह'


ख़द
ु हवा पैग़ाम थी काल घटाओं के ख़लाफ़.

28.
हर घड़ी र दा दख
ु क भीड़ ने सं ास ने
साथ अपना पर नह ं छोड़ा सनहर
ु आस ने

आ ासन, भख
ू , बेकार , घटन
ु , धोखाधड़ी
हाँ, यह सब तो दया है आपके व ास ने

उ भर काँध पे इतना काम का बोझा रहा


चाहकर भी शाहज़ाद को न दे खा दास ने

उस प रं दे का इरादा है उड़ान का मगर


पंख उसके न च डाले ह सभी नवास ने
अपने ह से म तो है इन तंग ग लय क घटन

आपको तोहफ़े दए ह गे कसी मधमास
ु ने

कस तरफ़ अब ख़ कर हम कस तरफ़ र ख क़दम


रा ते सब ढँ क लए ह संशय क घास ने

जल रहा था ' रोम ' , ' नीरो ' था रहा बंसी बजा
हाँ मगर, उसको कभी ब शा नह ं इ तहास ने.

29.
अब के भी आकर वो कोई हादसा दे जाएगा
और उसके पास या है जो नया दे जाएगा

फर से ख़जर थाम लगी हँसती-गाती बि तयाँ


जब नए दं ग का फर वो मु आ दे जाएगा

'एकल य ' को रखेगा वो हमेशा ताक पर


'पाँडव ' या 'कौरव ' को दा ख़ला दे जाएगा

क़ ल कर के ख़द
ु तो वो छप
ु जाएगा जाकर कह ं
और सारे बेगुनाह का पता दे जाएगा

िज़ दगी या िज़ दगी के साये न ह गे नसीब


ऐसी मंिज़ल का हम वो रा ता दे जाएगा.

30.
दल-ओ- दमाग़ को वो ताज़गी नह ं दे ते
ह ऐसे फल
ू जो ख़ु बू कभी नह ं दे ते

जो अपने आपको कहते ह मील के प थर


मसा
ु फ़र को वो र ता सह नह ं दे ते

उ ह चराग़ कहाने का हक़ दया कसने


अँधेर म जो कभी रौशनी नह ं दे ते

ये चाँद ख़द
ु भी तो सरज
ू के दम से क़ायम ह
ये अपने बल पे कभी चाँदनी नह ं दे ते

ये ' ोण ' उनसे अँगूठा तो माँग लेते ह


ये ' एकल य ' को श ा कभी नह ं दे ते.

31.
सा थयो ! व य को नभ क होना चा हए
आपका हर श द इक तहर क होना चा हए

चाहते ह वो नरं तर सािज़श पलती रह


इस लए माहौल को तार क होना चा हए

खेत जो अब तक हमारे ख़न
ू से सींचे गए
दो त , बँटवारा उपज का ठ क होना चा हए

लखने वाला िजसको पढ़ने म वयं लाचार है


या क़लम को इस क़दर बार क होना चा हए

श द मज़ से चन
ु , ये आपका अ धकार है
श द अथ के मगर नज़द क होना चा हए.

32.
दल क टहनी पे प य जैसी
शायर बहती न य जैसी
याद आती है बात बाबा क
उसक तासीर , आँवल जैसी

बाज़ आ जा, नह ं तो टटे


ू गा
तेर फ़तरत है आईन जैसी

िज़ दगी के सवाल थे मिु कल


उनम उलझन थी फ़लसफ़ जैसी

जब कभी -ब-हए
ु ख़द
ु के
अपनी सरत
ू थी क़ा तल जैसी

तू भी ख़द
ु से कभी मख़ा
ु तब हो
कर कभी बात शायर जैसी

ख़ाल हाथ जो लौट जाना है


छो ड़ए िज़द सकंदर जैसी

िज़ दगानी कड़कती धप
ू भी थी
और छाया भी बरगद जैसी

आपक घर म ' ज ' करे कैसे


मेज़बानी वो होटल जैसी.

33.
इन बि तय म धल
ू -धआँ
ु फाँकते हए

बीती तमाम उ यँू ह खाँसते हए

कछ
ु प थर के बोझ को ढोना है लािज़मी
जी तो रहे ह लोग मगर हाँफते हए

ढाँपे ह हमने पैर तो नंगे हए
ु ह सर
या पैर नंगे हो गए सर ढाँपते हएु

है िज़ दगी कमीज़ का टटा ू हआु बटन


बँधती ह उँ ग लयाँ भी िजसे टाँकते हए

हमको क़दम-क़दम पे वो गहराइयाँ मल ं


चकरा रह है अ ल िज ह मापते हए

दे ता नह ं ज़मीर भी कछ
ु ख़ौफ़ के सवा
डर-सा लगे है इस कएँ
ु म झाँकते हए

इंसान बेज़बान -सी भेड़ नह ं िज ह


ले जा सके कह ं भी कोई हाँकते हए

कहने को कह रहा था बचाएगा वो हम


अ सर दखा है वो भी यहाँ काँपते हए
ु .

34.
उनक आदत बलं
ु दय वाल
अपनी सीरत है सी ढ़य वाल

हमको न दय के बीच रहना है


अपनी क़ मत है कि तय वाल

िज़ दगी के भँवर सनाएँ


ु गे
अब कहानी वो सा हल वाल

हमपे कछ
ु भी लखा नह ं जाता
अपनी क़ मत है हा शय वाल

भखे
ू ब चे को माँ ने द रोट
चंदा मामा क लो रय वाल

आज फर खो गई है द तर म
तेर अज़ शकायत वाल

तू भी फँसता है रोज़ जाल म


हाय क़ मत ये मछ लय वाल

तू इसे सन
ु सके अगर, तो सन

यह कहानी है क़ा फ़ल वाल

वो ज़बाँ उनको कैसे रास आती


वो ज़बाँ थी बग़ावत वाल

भल
ू जाते , मगर नह ं भले

अपनी बोल मह बत वाल .

35.
मत बात दरबार कर
सीधी चोट करार कर

अब अपने आँसू मत पी
आह को चं गार कर

काट द:ु ख के सर तू भी
अपनी ह मत आर कर

अपने दल के ज़ म -सी
काग़ज़ पर फलकार
ु कर

सार द ु नया महकेगी


अपना मन फलवार
ु कर

आना है फर जाना है
अपनी ठ क तैयार कर

मीठ है फर ेम-नद
मत इसको यँू खार कर.

36.
िज़ दगी से उजाले गए
े ष जब-जब भी पाले

बाँटने जो गए रौशनी
उनपे प थर उछाले गए

फ़ ल है यह वह दे खए
बीज िजसके थे डाले गए

बत
ु बने या खलोने हए

लोग साँच म ढाले गए

लोग फ़ रयाद लेकर गए


डाल कर मँुह पे ताले गए

पाँव नंगे , सफ़र था क ठन


दरू तक साथ छाले गए

लेकर आए जो संवेदना
वो क़फ़न भी उठा ले गए

मँुह लगीं इस क़दर मछ लयाँ


ताल सारे खंगाले गए

अब सफ़र है कड़ी धप
ू का
पेड़ सब काट डाले गए

क़ा तल के वो सरदार थे
क़ा तल को छड़ा
ु ले गए

लोग थे सीधे-सादे मगर


कैसे हाथ म भाले गए

एक भी हल नह ं हो सका
लाख उछाले गए

वो समंदर हए
ु उनम जब
न याँ और नाले गए.

37.
कैसी रह बहार क आमद न पू छए
इन मौसम के सा थयो मक़सद न पू छए

ये तो ख़दा
ु के राम के बंदे ह इनसे आप
पजा
ू -घर के टटते
ू गंब
ु द न पू छए

इस यग
ु म हो गया है चलन ' बोनसाई ' का
यारो, कसी भी पेड़ का अब क़द न पू छए

है आज भी वह ं का वह ं आम आदमी
कस बात पर मखर
ु है ये संसद न पू छए

ये िज़ंदगी है अब तो सफ़र तेज़ धप


ू का
वो रा त के पेड़ वो बरगद न पू छए.

38.
अँधेर क सयाह को तु ह धोने नह ं दगे
भले लोगो ! ये सरज
ू रौशनी होने नह ं दगे

तु हारे आँसु ओं को सोख लेगी आग दहशत क


तु ह प थर बना दगे , तम
ु रोने नह ं दगे

सरंु ग बछ ग र त म, खेत म, यहाँ अब तो


तु ह वो बीज भी आराम से बोने नह ं दगे

घड़ी भर के लए जो नींद मानो मोल भी ले ल


भयानक वाब तमको
ु चैन से सोने नह ं दगे

जमीं ह हर गल म ख़न
ू क दे खो ,कई परत
मगर दं गे कभी इनको तु ह धोने नह ं दगे

अभी ' ज' ! व त है ख़ आ थाओं के बदलने का


यहाँ मासम
ू सपने वो तु ह बोने नह ं दगे.

39.
हाँफ़ता दल म फ़साना और है
काँपता लब पर तराना और है

जगनओं
ु ु -सा टम टमाना और है
पर दए-सा जगमगाना और है

बैठ कर हँसना -हँसाना और है


नफ़रत के गल
ु खलाना और है

कछ
ु नए स क़े चलाना और है
और फर उनको भनाना
ु और है

मार कर ठोकर गराना और है


जो गर , उनको उठाना और है

ठ क है चलना परानी
ु राह पर
हाँ , नई राह बनाना और है

जो गया बीता न उसक बात कर


आजकल यँू भी ज़माना और है

ज़ात म अपनी समटना है जदा



ख़शबओं
ु ु —सा फैल जाना और है

' ज' ! अकेले सोचना- लखना अलग


बैठकर सनना
ु -सनाना
ु और है.

40.
राज महल के न म जो भी गाते ह
उन के दामन महर
ु से भर जाते ह

ख़ाल दामन लोग शहर को जाते ह


झोले म उ मीद भर कर लाते ह

भीग रहे ह हम तो सर से पाँव तक


कैसे छ पर , कैसे उनके छाते ह

करते ह बरसात क बात सखे


ू म
और पानी क बँद
ू से डर जाते ह

ढल जाता है सरज
ू क उ मीद म दन
ऐसे भी तो फल
ू कई मरझाते
ु ह

पाए ह जो सच कहने क को शश म
अब तक उन ज़ म को हम सहलाते ह

ब ती के कछ
ु लोग ख़फ़ा ह गीत से
फर भी ह कछ
ु लोग यहाँ जो गाते ह

' ज' जी ! कैसे कह लेते हो तम


ु ग़ज़ल ?
ये अनभव
ु तो आते-आते आते ह.

41.
आसमान म गरजना और है
पर ज़मीं पे भी बरसना और है

सफ़ तट पर ह टहलना और है
और लहर म उतरना और है

दल म शोल का सलगना
ु और है
और शोल से गज़रना
ु और है

बज लयाँ बन टट
ू गरना और है
बज लयाँ दल म लरज़ना और है

रतजगे मज़ से करना और है
रोज़ नींद का उचटना और है

है जदा
ु घर म उगाना कै टस
रोज़ काँट म गज़रना
ु और है

ख़शबओं
ु ु से ढाँपना ख़द
ु को जदा

पर पसीने से महकना और है

इस घटन
ु म साँस लेना है अलग
आग सीने म सलगना
ु और है

जाम भर कर ' ज', पलाना है जदा



क़तरे -क़तरे को तरसना और है.

42.
सबक बोल है ज़लज़ले वाल
या कर बात सल सले वाल

उनके नज़द क जा के समझोगे


उनक हर बात फ़ा सले वाल
अब न बात म टाल तू इसको
बात कर एक फ़ैसले वाल

बात हँसते हए
ु कह कैसे
यातनाओं के सल सले वाल

सीख बंदर को दे के घबराई


एक च ड़या वो घ सले वाल

कल वो अख़बार क बनी सख़

एक औरत थी हौसले वाल

वो अकेला ह बात करता था


जाने य , रोज़ क़ा फ़ले वाल

फ़ क़ायम रहा हज़ार बरस


' ज' क ह ती थी बलबले
ु ु वाल .

43.
पवत जैसी यथाएँ ह
'प थर ' से ाथनाएँ ह

मक
ू जब संवेदनाएँ ह
सामने संभावनाएँ ह

रा त पर ठ क श द के
दनदनाती वजनाएँ ह

सािज़श ह 'सय
ू ' हरने क
ये जो 'तम' से ाथनाएँ ह
हो रहा है सय
ू का वागत
आँ धय क सचनाएँ
ू ह

घमते
ू ह घा टय म हम
और काँध पर ' गफ़ाएँ
ु 'ह

आदमी के र पर पलतीं
आज भी आ दम थाएँ ह

फल
ू ह हाथ म लोग के
पर दल म ब ुआएँ ह

वाथ के रा ते चल कर
डगमगाती आ थाएँ ह

ये मनोरं जन नह ं करतीं
य क ये ग़ज़ल यथाएँ ह

छो ड़ए भी… फर कभी सनना



ये बहत
ु ल बी कथाएँ ह.

44.
चार दन इस गाँव म आकर पघल जाते ह आप
पर पहँु च कर शहर म कतने बदल जाते ह आप

आपके अंदाज़ , हमसे पू छए तो मोम ह


अपनी सु वधा के सभी साँच म ढल जाते ह आप

आपके औक़ात क इतनी ख़बर तो है हम


मार कर लँ गड़ी हम आगे नकल जाते ह आप

कि
ु तय खेल के चसके आपको भी खब
ू ह
शेर बकर पर झपटता है बहल जाते ह आप
स याँ मलने पे जैसे मं -साधक म त ह
शहर म होते ह दं गे , फल
ू -फल जाते ह आप

दरू तक फैल अँधेर बि तयाँ अब या कर


रौशनी क बात आती है तो टल जाते ह आप

कारवाँ पागल नह ं जो आपके पीछे चल


मंिज़ल आने से पहले ' ज' ! फसल जाते ह आप.

45.
क ध रहे ह कतने ह आघात हमार याद म
और नह ं अब कोई भी सौगात हमार याद म

वो शतरं ज जमा बैठे ह हर घर के दरवाज़े पर


शह उनक थी , अपनी तो है मात हमार याद म

ताजमहल को लेकर वो ममताज़


ु क बात करते ह
लहराते ह कार गर के हाथ हमार याद म

घर के संद
ु र- व न सँजो कर, हम भी कछ
ु पल सो जाते
ऐसी भी तो कोई नह ं है रात हमार याद म

धप
ू ख़याल क खलते ह वो भी आ ख़र पघलगे
बैठ गए ह जमकर जो ' हम-पात' हमार याद म

जलता रे ग तान सफ़र है, पग-पग पर है त हाई


स नाट क मह फ़ल-सी, हर बात हमार याद म

सह जाने का, चप
ु रहने का, मतलब यह ब कल
ु भी नह ं
पलता नह है कोई भी तघात हमार याद म
सच को सच कहना था िजनको आ ख़र तक सच कहना था
क धे ह ' ज ,' वो बनकर ' सकरात
ु ' हमार याद म .

46.
ये कताब हदायत वाल
सफ़ उनके ह फ़ायद वाल

आदत भी कभी बदलती ह ?


छोड़ बात ये पागल वाल

तू पकड़ सफ़ रा ता अपना
सार सड़क ह दो ख वाल

फर भी तोले थे 'पर' प रं दे ने
गो हवाएँ थीं सािज़श वाल

रा ते 'झठ
ू ' के रहे आसाँ
'सच' क राह थीं मिु कल वाल

उनक मासू मयत पे मत जाना


उनक चाल ह शा तर वाल

अब वो प रयाँ कहाँ से लाएँ हम


नानी-माँ क कहा नय वाल

घर के बरसात म कह हमने
ग़ज़ल ख़शरं
ु ग मौसम वाल .
47.
जो थे बलं
ु द सह फ़ैसले दलाने म
वो ल ज़ ब द ह दहशत के कारख़ाने म

जो याद आ गए ब चे , ज़ रत घर क
तमाम दद गए भल
ू कारखाने म

चलो फर आज भी फ़ाक़े उबाल लेते ह


अभी तो दे र है फ़ ल-ए-बहार आने म

है सेज काँट क अब और आसमाँ छत है


मलेगा और भला या ग़र बख़ाने म

जड़गी
ु सीधे कह ं िज़ दगी से ये जाकर
भले ह ख़ु क़ ह ग़ज़ल ये गनगनाने
ु ु म

ग़ज़ल म शे'र ह कहना है ' ज' ! हनरम


ु द
नया तो कछ
ु भी नह ं क़ा फ़ए उठाने म.

48.
चिु पय से ग़ज़ल बनाता है
और फर शोर को सनाता
ु है

गाँव म जब कभी वो आता है


रो के सब को यहाँ लाता है

वो जो सरदार है कबीले का
पानी माँगो तो आग लाता है
आदमी है नए ज़माने का
दो ती सबसे वो नभाता है

बन के बैठा है जो ज़माने पर
बोझ वो खद
ु कहाँ उठाता है

का लज म पढ़ा- लखा सब कछ

दे खए व त या सखाता है

बात करता है सर फ़र जैसी


आँ धय म दया जलाता है

खोदता है वो खाइयाँ अ सर
लोग कहते ह ' पल
ु बनाता है '

दद से भागकर कहाँ जाएँ


दद सबको गले लगाता है

आँकड़ म बदल दया सबको


अब उ ह जोड़ता घटाता है

भीड़ क बात ' ज' नह ं सनता



भीड़ म रा ता बनाता है.

49.
उघड़ी चतवन
खोल गई मन

उजले ह तन
पर मैले मन

उलझगे मन
बखरगे जन

अंदर सीलन
बाहर फसलन

हो प रवतन
बदल आसन

बेशक बन-ठन
जाने जन-जन

भरता मेला
जेब ठन-ठन

जजर चोल
उधड़ी सावन

टटा
ू छ पर
सर पर सावन

मन ख़ाल ह
लब `जन-गण-मन '

तन है दल-दल
मन है दपन

म ृ यु पोखर
झरना जीवन

नवा सत है
यँू 'जन-गण-मन'

खलनायक का
यँू अ भनंदन
' ज' क ग़ज़ल
जय ' जन-गन-मन '.

50.
चिु पयाँ िजस दन ख़बर हो जाएँगी
हि तयाँ ये दर-ब-दर हो जाएँगी

आज ह अमत
ृ मगर कल दे खना
ये दवाएँ ह ज़हर हो जाएँगी

सीख लगी जब नये अंदाज़ ये


बि तयाँ सार नगर हो जाएँगी

स य-जन ह, आ थाएँ , या ख़बर


अब इधर ह , कब उधर हो जाएँगी

सा हल से अब हटा लो कि तयाँ
वना तफ़ाँ
ू क नज़र हो जाएँगी

है नज़ाम-ए-अ न पर तम
ु दे खना
अ न क बात ग़दर हो जाएँगी

गर इराद म नह पु ता यक़ ं
सब दआएँ
ु बेअसर हो जाएँगी

मंिज़ल क फ़ है गर आपको
मंिज़ल ख़द
ु हमसफ़र हो जाएँगी

िज़ंदगी मिु कल सफ़र है धप


ू का
ह मत आ ख़र शजर हो जाएँगी.
51.
एक चु पी आजकल सारे शहर पर छाई है
अब हवा जाने कहाँ से या बहा कर लाई है

िजस सड़क पर आँख मँू दे आपके पीछे चले


आँख खोल तो ये जाना ये सड़क तो खाई है

अब चराग़ के शहर म रा ते दखते नह ं


इन उजाल से तो हर इक आँख अब चँु धयाई है

वाब म भी दे ख पाना घर ग़नीमत जा नए


पू छए हमसे, हम तो नींद भी कब आई है

कछ
ु तो तीखी चीख़ डालेगी ह नींद म ख़लल
प थर के शहर से आवाज़ तो टकराई है

कंकर ले रा त म हमसफ़र के नाम पर


साथ ' ज ' के त गी है , भख
ू है, त हाई है.

52.
िज़ंदगी का गीत यँू तो अब नए सरु -ताल पर है
फर भी जाने य हमार हर ख़शी
ु हड़ताल पर है

हादसे क वजह तो अब दो तो ! मलती नह ं


आजकल मज
ु रम कोई बैठा हआ
ु पड़ताल पर है

आँ धय म या कर अब अपने घर क बात भी हम
ये सम झये एक तनका मक ड़य के जाल पर है
कैसे अपनी बात लेकर आप तक पहँु चगे हम ,जब,
मसखर का एक जमघट आपक चौपाल पर है

रा त या मंिज़ल क फ़ तो है बाद म ' ज '


खेद पहले हमसफ़र क अनमनी-सी चाल पर है.

53.
स नाटे से बढ़कर बोल , स नाट क रानी रात
सं ास क मक
ू चभन
ु को दे जाएगी बानी रात

दन तो चने
ु गा कंकर-प थर , फर ब च के जैसे ह
और कहे गी कोई क़ सा , बन जाएगी नानी रात

सार गम कछ
ु लोग ने भर ल अपने झोले म
अपने ह से म आई है ले-दे कर बफ़ानी रात

हमने भी दन ह चाहा था , हम भी लाए थे 'सरज


ू '
जाने य कछ
ु साथी जाकर ले आए वो परानी
ु रात

जाने वो य वो शहर म तब से, मारा-मारा फरता है


यारो, उसने, िजस दन से है , जाना दन ,पहचानी रात

आँख म हो दन का सपना तो आँख म कट जाती है


' ज ', कछ
ु पल क ह लगती है फर तो आनी-जानी रात .

54.
सरज
ू डबा
ू है आँख म, आज है फर सँवलाई शाम
स नाटे के शोर म सहमी बैठ है पथराई शाम

सहमे र ते थके मसा


ु फ़र और अजब -सा सनापन

आज हमार ब ती म है दे खो या- या लाई शाम

' लौट कहाँ पाए ह प रं दे आज भी अपने नीड़ को '


बरगद क टहनी क बात सुन-सनकर
ु मरझाई
ु शाम

साया-साया बाँट रहा है दहशत घर-घर , ब ती म


सहमी आँख, टटे
ू सपने और है इक पगलाई शाम

अभी-अभी तो दन है नकला , सरज


ू भी है परब
ू म
' ज ' ! फर य अपनी आँख म आज अभी भर आई शाम .

55.
रात - दन हम से तो है उलझती ग़ज़ल
उनक मह फ़ल म होगी चहकती ग़ज़ल

शो ख़य के नशे म बहकती ग़ज़ल


सफ़ बचकाना है वो मचलती ग़ज़ल

झमती
ू लड़खड़ाती ग़ज़ल मत कहो
अब कहो ठोकर से सँभलती ग़ज़ल

ख़ामशी
ु सािज़श के शहर क सनो

फर कहो सािज़श को कचलती
ु ग़ज़ल

अब मखौ
ु ट , नक़ाब के इस दौर म
िजतने चेहरे ह सबको पलटती ग़ज़ल

दे खए इसम सागर-सी गहराइयाँ


अब नह ं है नद -सी उफ़नती ग़ज़ल
गम
ु बनावट क ख़ु बू म होती नह ं
ये पसीने -पसीने महकती ग़ज़ल

फर यग
ु के अँधेरे के है -ब-
इक नई रौशनी-सी उभरती ग़ज़ल

दन के हर दद से , रं ज से जझकर

रात को ' ज' के घर है ठहरती ग़ज़ल.

56.
जीवन के हर मोड़ पर अब तो संदेह का साया है
नफ़रत क तहज़ीब ने अपना रं ग अजब दखलाया है

गाँव म जो सब लोग को इक -दजे


ू तक लाती थीं
कसने आकर उन र म को आपस म उलझाया है

तमने
ु अगर था अ न ह बाँटा ,राह, गल , चौ्राह म
सनते
ु ह य नाम तु हारा हर चेहरा कु हलाया है

सोख तट को न दया तो फर सागर म मल जाएगी


बेशक परेू दम से बादल घाट पर घर आया है

जन-गण-मन के संवाद के संकट से जो लड़ती ह


उन ग़ज़ल को कछ
ु लोग ने पागल शोर बताया है

अब के भी आई आँधी तो ब च ! ज़ोर लगा दे ना


इस घर को परख
ु ने भी तो कतनी बार बनाया है

बात का जादगर
ू है वो , सपन का सौदागर भी
स दय से भखे
ू - यास को िजसने भी बहलाया है

-----.